gst raid : फर्जी कंपनियां बनाकर 400 करोड़ की हेराफेरी का खुलासा, व्यापारियों में हडक़ंप

gst raid : फर्जी कंपनियां बनाकर 400 करोड़ की हेराफेरी का खुलासा, व्यापारियों में हडक़ंप
gst raid

Lalit Kumar Kosta | Updated: 02 Aug 2019, 12:50:01 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

स्टेट जीएसटी की कार्रवाई, 60 और बोगस कम्पनियों का पता चला, थमाया गया नोटिस

जबलपुर. गलत नाम और फर्म बनाकर करोड़ों का व्यवसाय करने वाले 60 और व्यापारियों का पता चला है। स्टेट जीएसटी की एंटी इवेजन ब्यूरो द्वारा इसका गोपनीय सर्वे कराया जा रहा है। इससे पहले तीन दिन के सर्वे में 150 बोगस कम्पनियों का पता लगाते हुए एंटी इवेजन ब्यूरो 106 करोड़ टैक्स चोरी का खुलासा कर चुकी है। इन सभी कम्पनी संचालकों को नोटिस जारी करते हुए टैक्स की रकम जमा कराने के लिए कहा गया है। विभाग इसके साथ ही कुछ कम्पनियों पर छापे की तैयारी में भी जुटी है।

स्टेट जीएसटी की एंटी इवेजन ब्यूरो में जांच से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक व्यापारी इनपुट क्रेडिट लेने के लिए इस तरह बोगस कम्पनियों का संचालन कर रहे थे। पूरे महाकोशल क्षेत्र में 200 से अधिक इस तरह की बोगस कम्पनियों का पता चला है। इसमें 150 की पुष्टि हो चुकी है, जबकि अन्य को लेकर गोपनीय सर्वे किया जा रहा है। 80 टीमों के 250 कर्मचारियों ने जबलपुर, कटनी, छिंदवाड़ा, अनूपपुर, सिवनी, बालाघाट, नरसिंहपुर व मंडला में 29 से 31 जुलाई के बीच ये सर्वे की कार्रवाई हुई थी। इन फर्मों द्वारा कुल 614 करोड़ का कारोबार किया गया है। इसके एवज में 106 करोड़ रुपए टैक्स बनता है।

शहर में 68 बोगस कम्पनियां मिली :
जबलपुर जिले में 68 बोगस कम्पनियां मिली हैं। ये फर्जी फर्म बनाकर इनसे लेन-देन करते हुए इनपुट क्रेडिट का लाभ ले रही थी। जब इन कम्पनियों का सत्यापन किया गया तो सच्चाई सामने आयी। इन फर्मों ने 400 करोड़ का टर्न ओवर करते हुए लगभग 50 करोड़ टैक्स चोरी की है।

150 बोगस कम्पनियों का सत्यापन कराया जा चुका है। 60 के लगभग और बोगस कम्पनियों का पता चला है। इसकी भी जांच करायी जा रही है। सभी बोगस कम्पनियों के संचालकों को नोटिस जारी कर टैक्स की रकम जमा करने के लिए कहा गया है। जरूरत पडऩे पर छापे की कार्रवाई भी की जाएगी।
- सुनील मिश्रा, संयुक्त आयुक्त एंटी इवेजन ब्यूरो

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned