वीएफजे को बचाएगी जीसीएफ

वीएफजे को बचाएगी जीसीएफ
gun carriage factory to save vehicle factory

Gyani Prasad | Updated: 25 Mar 2019, 12:15:37 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

देना चाहती है ज्यादा काम, शारंग तोप का वर्कलोड मिला है, तकनीकी सहायता देना प्रारंभ

 

जबलपुर. वीएफजे में काम की कमी को दूर करने के लिए जीसीएफ भरपूर सहयोग करना चाहता है। सैन्य वाहनों का उत्पादन मार्च के बाद वीकल फैक्ट्री में होगा या नहीं यह सेना पर निर्भर होगा। इसलिए नए उत्पाद तैयार करने की योजना बनाई है। इसमें सबसे बड़ा प्रोजेक्ट 130 एमएम से 155 एमएम में अपग्रेड शारंग गन है। सेना के पास 3 सौ गन को अपग्रेड किया जाना है। प्रोजेक्ट के तहत 60 फीसदी काम वीएफजे को मिल सके, इसके लिए जीसीएफ प्रबंधन प्रयास कर रहा है।

शारंग तोप प्रोजेक्ट को गन कैरिज फैक्ट्री (जीसीएफ) और वीकल फैक्ट्री जबलपुर (वीएफजे) मिलकर पूरा करना है। इस काम में आयुध निर्माणी कानपुर भी भागीदार है। चूंकि वीएफजे के दो प्रमुख उत्पाद एलपीटीए और स्टालियन सैन्य वाहन को नॉन कोर गु्रप में शामिल किया गया है। इसलिए आगामी समय में इनका उत्पादन होगा यह तय नहीं है। इसलिए आयुध निर्माणी बोर्ड ने शारंग प्रोजेक्ट में वीएफजे को भी शामिल किया है। फैक्ट्री के कर्मचारियों ने गन को अपग्रेड करने की टे्रनिंग ली है। अब जरुरी संसाधन फैक्ट्री में जुटाए जा रहे हैं। इस काम में जीसीएफ भी सहयोग कर रहा है।

बड़े प्रोजेक्ट, हल्का होगा काम
जीसीएफ के पास कई बड़े प्रोजेक्ट हैं। इन्हें समय पर पूरा करना उसके लिए बड़ी चुनौती होगी। इसलिए कुछ कामों को वह दूरी निर्माणियों में बांटना चाहता है। जीसीएफ में वर्तमान में सबसे बड़ा प्रोजेक्ट 155 एमएम 45 कैलीबर धनुष तोप का है। रक्षा मंत्रालय ने 114 तोप का बल्क प्रोडक्शन क्लीयरेंस दे दिया है। दूसरा प्रोजेक्ट 40 एमएम एल-70 एंटी एयरक्राफ्ट गन का अपग्रेडेशन और नई गन का निर्माण है। अभी तक फैक्ट्री 3 सौ गन अपगे्रड कर चुकी है। इस साल उसे 100 गन अपग्रेड करनी है। तीसरा प्रोजेक्ट शारंग तोप का है। उसे 3 सौ तोप को तैयार कर सेना को सौंपना है।

फिर मोर्टार का उत्पादन होगा
इसी प्रकार फैक्ट्री में इस साल 120 एमएम मोर्टार का उत्पादन भी पुन: प्रारंभ होना है। वहीं 105 एमएम लाइट फील्ड गन का ऑर्डर रहता है। इस साल भी उसे करीब आधा सैकड़ा गन का ऑर्डर मिलना है। फैक्ट्री के सामने चुनौती यह है कि कर्मचारी उतने ही हैं और काम ज्यादा।

शारंग तोप प्रोजेक्ट समय पर पूरा करना है। इस काम में वीएफजे की भागीदारी ज्यादा से ज्यादा हो सके इसके प्रयास किए जा रहे हैं। इस काम के लिए वीकल फैक्ट्री के स्टाप को प्रशिक्षित किया गया है।

रजनीश जौहरी, महाप्रबंधक जीसीएफ

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned