scriptHari Prabodhini Ekadashi Lord Vishnu woke up after four months auspicious work start with tulsi vivah | चार माह के शयन काल के बाद जागे भगवान विष्णु, आया सहालग का मौसम | Patrika News

चार माह के शयन काल के बाद जागे भगवान विष्णु, आया सहालग का मौसम

-भगवान विष्णु और माता तुलसी के विवाह के साथ मांगलिक कार्य की शुरूआत
-बैंडबाजा, कैटरर्स, लॉन संचालकों में खुशी का माहौल
-कोरोना के चलते डेढ़ साल में तीन वैवाहिक सीजन खाली गया
-जानें कब-कब है वैवाहिक शुभ लग्न

जबलपुर

Published: November 15, 2021 01:33:55 pm

वाराणसी. चार माह के शयन के बाद भगवान विष्णु सोमवार हरि प्रबोधनी एकादसी को जाग गए। ऐसे आज भगवान विष्णु और माता तुलसी की पूजा व विवाह के साथ ही मांगलिक कार्य आरंभ हो जाएंगे। भगवान विष्णु और माता आशीर्वाद से हर तरफ खुशी का माहौल होगा। करीब डेढ़ साल से ज्यादा वक्त से कोरोना के चलते वैवाहिक कार्यक्रमों में जो महज रस्मअदायगी शेष रह गई थी उसकी जगह अब लोग एक बार फिर से धूम-धाम से शादी-विवाह कर सकेंगे। इसे लेकर बैंडबाजा, कैटरर्स, लॉन संचालकों में खुशी का माहौल है।
Hari Prabodhini Ekadashi
Hari Prabodhini Ekadashi
हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक शुक्ल एकादशी को हरि प्रबोधिनी एकादशी और देवोत्थान एकादशी के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। ये वही दिन है जब चातुरमास पूरा होता है और भगवान विष्णु चार महीने के शयन काल पूर्ण कर जागते हैं। इस मौके पर माता तुलसी का भगवान विष्णु संग विवाह होता है। पौराणिक मान्यता है कि इसी दिन से भगवान विष्णु सृष्टि का कार्यभार पुनः संभाल लेते हैं और इसके साथ ही सभी मांगलिक कार्य भी शुरू हो जाते हैं।
वैसे भी सनातन हिंदू धर्म में एकादशी का महात्म्य बहुत ज्यादा है। भगवान विष्णु को समर्पित एकादशी तिथि पर विधि- विधान से भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यता हैं कि एकादशी व्रत रखने से भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है और मृत्यु के पश्चात मोक्ष की प्राप्ति होती है।
हरि प्रबोधनी या देवउठावनी एकादशी कार्तिक, शुक्ल एकादशी 14 नवंबर को दिन में 9:00 बजे लग गई थी, जो 15 नवंबर सोमवार की सुबह 8:51 तक रही। ऐसे में उदया तिथि में सोमवार को एकादशी पड़ने के कारण सोमवार को ही हरि प्रबोधिनी एकादशी मनाई जा रही है। इस दिन व्रत रखने वाले व्रती जन मंगलवार 16 नवंबर को व्रत का पारण करेंगे।
देव उठावनी एकादशी पर सुबह ही नित्य कर्म से निवृत्त हो कर, स्नान-ध्यान के बाद घर के पूजन कक्ष में साफ-सफाई कर, खुद भी शारीरिक व आत्मिक पवित्रता के साथ दीप प्रज्वलित कर भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक कर पुष्प और तुलसी दल अर्पित किया जाता है। इस दिन व्रत रखने का भी बड़ा विधान है।
हरि प्रबोधिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु के शालीग्राम अवतार और माता तुलसी का विवाह किया जाता है। इस दिन माता तुलसी और शालीग्राम भगवान की भी विधि- विधान से पूजा करन की मान्यता है। इस खास दिन को भगवान की आरती उतारी जाती है तथा प्रभु को सात्विक वस्तुओं का भोग लगाया जाता है। भगवान विष्णु के भोग में तुलसी को जरूर शामिल किया जाता है। इसके पीछे मान्यता है कि बिना तुलसी के भगवान विष्णु भोग ग्रहण नहीं करते। ऐसे में इस पावन दिन भगवान विष्णु के साथ ही माता लक्ष्मी की पूजा भी की जाती है। इस दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान किया जाता है।
हरि प्रबोधिनी एकादशी से ही मांगलिक कार्य आरंभ हो जाएंगे। इस दिन का हर किसी को शिद्दत से इंतजार था। ऐसा हो भी क्यों न, आखिरकार पिछले डेढ़ साल बाद ऐसा मौका आ रहा है, अन्यथा इन बीते डेढ़ साल में सहालग (शादी-विवाह के आयोजन) के तीन सत्र कोरोना संक्रमण के चलते एक तरह से खाली ही बीत गए। लोगों ने जैसे तैसे वैवाहिक आयोजन किए। इसका खास असर, बैंडबाजा, लॉन, कैटरर्स पर पड़ा। उनकी रोजी-रोटी मारी गई। लेकिन अब सभी उत्साहित हैं। उन्हें पूरी उम्मीद है कि इस सहालग के सीजन में उनकी अच्छी कमाई होगी।
विवाह के शुभ लग्न
नवंबर-2021- 19,20, 21,28, 29 और 30
दिसंबर -2021- 12,7 और 12

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.