मध्य प्रदेश में सबसे बड़ा हवाला करोबार, इन नेताओं के शामिल होने की आशंका!

मध्य प्रदेश में सबसे बड़ा हवाला करोबार, इन नेताओं के शामिल होने की आशंका!

 

By: Lalit kostha

Published: 15 Nov 2018, 09:27 AM IST

जबलपुर/भोपाल. आयकर विभाग की जबलपुर इन्वेस्टीगेशन विंग की टीम द्वारा पकड़ा गया हवाला कारोबार 500 करोड़ रुपए से कहीं ज्यादा का हो सकता है। यह कारोबार जबलपुर से देश के कई बड़े शहरों में फैला हुआ है। इस बात के पुख्ता सबूत टीम को मिले हैं। सबसे ज्यादा कारोबार देश की आर्थिक राजधानी मुम्बई में हुआ। सूत्रों के अनुसार इस हवाला कांड में प्रदेश के कुछ नामी नेताओं के शामिल होने की पूरी संभावना है। ये अभी स्पष्ट नहीं है, लेकिन पूछताछ और जांच में इसका खुलासा होने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि कटनी के हवाला कांड में एक दिग्गज मंत्री का नाम आ चुका है। जिसकी जांच की जा रही है।

NEWS FACTS- जबलपुर से मुंबई तक फैला नेटवर्क
स्टेशनरी शॉप के छोटे से केबिन से चल रहा था भारी हवाला कारोबार

मुख्य कर्ताधर्ता खिलौना व्यापारी पंजू गिरी गोस्वामी से पूछताछ की गई। इसमें कई अहम जानकारियां भी मिली है। मामले की जांच आयकर विभाग के डीजी और निर्वाचन आयोग द्वारा की जा रही है। विभाग की एक टीम ने सिवनी व बालाघाट में भी जांच की है। सिवनी में घनश्याम सोनी के यहां डेढ़ किलो सोना और 126 किलो चांदी और 1.10 लाख रुपए नकद राशि मिली है। इसी तरह बालाघाट के प्रमुख सराफा प्रतिष्ठान धरम ज्वेलर्स पर भी छापे की कार्रवाई की गई। इसमें टीम को 2 किलो सोना, 3 किलो चांदी एवं 10.20 लाख रुपए नकद मिले हैं।

आयकर सूत्रों के अनुसार इस कारोबार का भंडाफोड़ ओमती पुलिस द्वारा पकड़े गए अतुल खत्री के यहां काम करने वाले मुकुल पटेल से जब्त की गई राशि के आधार पर हुआ था। पुलिस ने प्रारंभिक जांच के बाद मामला आयकर को सौंप दिया था। मुकुल के पास 15 लाख और नोट गिनने वाली मशीन मिली थी। मामले में शक होने पर आयकर विभाग ने इस मामले पर गहन जांच कर मुकुल से पूछताछ की तो पता चला कि ओमती में स्टेशनरी की दुकान में बने छोटे से केबिन से यह कारोबार चलाता है। उसने यह भी बताया कि यह पैसा अतुल खत्री का है।

बताया जाता है कि अतुल हवाला से जुड़ा बड़ा प्लेयर है। हालांकि 4-5 साल से उसने ये काम घटा दिया था। इन्वेस्टीगेशन विंग की टीम ने मुकुल के माध्यम से अतुल को पकड़ा। अतुल कुछ बताने के लिए तैयार नहीं था। इस पर इन्वेस्टीगेशन विंग के ज्वाइंट डायरेक्टर खुद मौके पर पहुंचे। उन्होंने टीम के साथ सख्ती से पूछताछ की तो अतुल ने राज उगला। तलाशी में दुकान की केबिन के अंदर 2- 4 पेज मिले। उसमें कुछ नाम मिले। उसी आधार प्रकरण बनाया गया। उसने बताया कि वह डेढ़ से तीन फीसदी कमीशन लेकर यह कारोबार करता है। उसने बीते 3 से 4 महीने में 100 करोड़ से ज्यादा का कारोबार किया। वहीं कमीशन के रूप में ढाई करोड़ से ज्यादा कमाए। उससे यह राशि सरेंडर करवाई गई।

पूछताछ में मिला पंजू का नाम

अतुल से पूछताछ में खिलौना कारोबारी पंजू गिरी गोस्वामी का नाम मिला। तीन दिन पहले उसकी दुकान में तलाशी ली गई तो 60 लाख रुपए से ज्यादा की नकद राशि मिली। उसने पैसे ड्रॉज के अंदर बनाए गए लॉकर में रखे थे। टीम ने पैसे बरामद किए तो उसमें दस्तावेज भी मिले। इस पर टीम ने रात में ही जयपुर से डीजी से सर्च की अनुमति ली। फिर घर में भी तलाशी ली। नकदी के साथ जो डाक्यूमेंट मिले उसमें 2 से 3 साल में 500 करोड़ से ज्यादा के हवाला कारोबार का खुलासा हुआ। दस्तावेज भी मिले जिसमें पैंसिल से कोड में किसे पैसा भेजा लिखा है। दस्तावेजों से देश में रायपुर, जयपुर, इंदौर, मुम्बई, कटनी, सतना सहित अन्य शहरों से लिंक मिले हैं।

यहां 9.50 करोड़ के ज्वैलरी डाक्यूमेंट मिले
आयकर विभाग की इन्वेस्टीगेशन टीम द्वारा इंदौर के एक सराफा कारोबारी के यहां भी जांच की जा रही है। बताया जाता है कि उसके प्रतिष्ठान से 9.50 करोड़ रुपए की ज्वैलरी के दस्तावेज मिले है। विभाग का कहना है कि अभी इसकी जांच की जा रही है।
यह खुलासा हुआ
- खिलौना कारोबारी में सिर्फ 3 माह में 100 करोड़ रुपए से ज्यादा भेजे
- सिवनी में 126 किलो चांदी, बालाघाट में 10 लाख नकद मिले
- इंदौर में 9.50 करोड़ की ज्वैलरी के डाक्यूमेंट मिले
- 500 करोड़ से ज्यादा पहुंच सकता है हवाला का आंकड़ा

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned