election petition : भाजपा सांसद ढालसिंह बिसेन के खिलाफ दूसरी चुनाव याचिका पर हाईकोर्ट का नोटिस

election petition : भाजपा सांसद ढालसिंह बिसेन के खिलाफ दूसरी चुनाव याचिका पर हाईकोर्ट का नोटिस
BJP,High Court,bjp mp,MP High Court,election petition,High Court to cancel the election petition denial

Abhishek Dixit | Updated: 02 Aug 2019, 08:10:51 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

बसपा के कंकर मुंजारे ने दायर की है याचिका, चुनाव आयोग को संपत्ति का सही ब्योरा पेश न करने का आरोप

जबलपुर. मप्र हाईकोर्ट ने सिवनी-बालाघाट संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद डॉ. ढालसिंह बिसेन के खिलाफ दूसरी चुनाव याचिका परर उन्हें नोटिस जारी किए । जस्टिस नंदिता दुबे की सिंगल बेंच ने गत लोकसभा चुनाव में बसपा प्रत्याशी रहे कंकर मुंजारे की चुनाव याचिका पर डॉ बिसेन से जवाब-तलब किया। अगली सुनवाई 11 सितंबर को होगी। इसके पहले 24 जुलाई को भी कांग्रेस प्रत्याशी मधु भगत की याचिका पर डॉ बिसेन के खिलाफ नोटिस जारी किया गया था।

यह है मामला
सिवनी-बालाघाट संसदीय क्षेत्र से बसपा प्रत्याशी रहे कंकर मुंजारे ने याचिका में कहा कि निर्वाचन अधिकारी ने एक प्रत्याशी किशोर समरीते का गलत तरीके से पेश नामांकन स्वीकार किया। जबकि उसने अपने अपराधिक रेकार्ड व सजा के संबंध में गलत शपथपत्र प्रस्तुत किया। विजयी भाजपा प्रत्याशी डॉ ढालसिंह बिसेन ने भी नामांकन पत्र के साथ संलग्न शपथपत्र में अपनी संपत्ति का पूरा ब्योरा नहीं दिया। कहा गया कि मतदान व मतगणना के दौरान ईवीएम की कार्यप्रणाली भी आपत्तिजनक व संदेहास्पद रही। मतदान के बाद 40 दिन तक स्ट्रॉंग रूम में रखने के बावजूद मतगणना के समय अधिकांश ईवीएम की बैटरी 99 प्रतिशत चार्ज पाई गई। इन सभी अनियमितताओं को जन प्रतिनिधित्व अधिनियम का उल्लंघन बताते हुए याचिका में डॉ बिसेन का निर्वाचन शून्य घोषित करने का आग्रह किया गया। प्रारंभिक सुनवाई के बाद कोर्ट ने सांसद डॉ बिसेन सहित अन्य अनावेदकों से जवाब-तलब किया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned