डीएनए टेस्ट कराने अब नहीं करना होगा इंतजार, इस शहर में बन रही आधुनिक डीएनए टेस्ट लैब

डीएनए टेस्ट कराने अब नहीं करना होगा इंतजार, इस शहर में बन रही आधुनिक डीएनए टेस्ट लैब

 

By: Lalit kostha

Published: 06 Jan 2020, 10:31 AM IST

जबलपुर. प्रदेश की चौथी हाइटेक एफएसएल बिल्डिंग नया गांव में बनेगी। लगभग 30 करोड़ से प्रस्तावित इस बिल्डिंग के साथ ही डीएनए लैब और उसकी अलग से बिल्डिंग भी शामिल है। लगभग एक एकड़ भूमि जबलपुर पुलिस की ओर से एफएसएल को उपलब्ध कराने की सहमति पर पीएचक्यू को प्रस्ताव भेजा जा चुका है। अभी एफएसएल का क्षेत्रीय सेंटर जेडीए के बिल्डिंग में किराए से संचालित है। जबलपुर में दो पदस्थ दो साइंटिस्ट को डीएनए जांच की ट्रेनिंग भी दिलवाई जा चुकी है।

11.50 करोड़ डीएनए के उपकरण और बिल्डिंग पर होगा खर्च, 30 करोड़ की लागत
नयागांव में बनेगी डीएनए और एफएसएल की हाईटेक बिल्डिंग

जानकारी के अनुसार अभी प्रदेश में सिर्फ सागर एफएसएल में डीएनए जांच होती है। भोपाल और इंदौर में भी दोनों क्षेत्रीय एफएसएल की बिल्डिंग तैयार हो चुकी है। वहां के लिए जरूरी जांच उपकरणों की खरीदी भी हो चुकी है। सिर्फ जबलपुर का प्रकरण अटका हुआ था। पिछले महीने शहर के दौरे पर आए गृहमंत्री बाला बच्चन ने जल्द डीएनए और एफएसएल बिल्डिंग बनाने के लिए फंड जारी करने की बात कही थी। सागर एफएसएल के डायरेक्टर डॉ. हर्ष शर्मा ने प्रस्ताव बनाकर एडीजी टेक्निकल के माध्यम से पीएचक्यू को भेज दी है। इसके अगले छह महीने में फंड सहित बिल्डिंग निर्माण का टेंडर जारी होने की बात कही जा रही है।

 

high tech  <a href=dna test lab" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/04/17/couple_decide_to_take_dna_test_for_fun_results_were_shocking_5603438-m.jpg">

डीएनए जांच के लिए जरूरी उपकरण की हो चुकी खरीदी- डीएनए जांच के लिए जरूरी उपकरणों की खरीदी 5.50 करोड़ की लागत से पीएचक्यू स्तर पर की जा चुकी है। लगभग इतनी ही राशि उसकी अलग बिल्डिंग निर्माण पर खर्च होगी।


पुलिस अधीक्षक की तरफ से नयागांव में एफएसएल व डीएनए लैब के लिए भूमि उपलब्ध कराने की सैद्धांतिक मंजूरी दी गई है। इसके आधार पर प्रस्ताव डायरेक्टर की तरफ से पुलिस मुख्यालय को भेजा जा चुका है। जल्द ही भवन निर्माण और जरूरी उपकरणों की खरीदी को लेकर टेंडर आदि की प्रक्रिया शुरू होगी।
डॉ. एसएस ठाकुर, एफएसएल, जबलपुर रीजन प्रभारी

क्यो जरूरी है
- मप्र हाईकोर्ट की मुख्य खंडपीठ है
- सागर में एक मात्र डीएनए जांच की लैब है
- महिला के साथ बलात्कार और पाक्सो से सम्बंधित सभी प्रकरणों में डीएनए जांच
अनिवार्य है
- अभी किराए की बिल्डिंग में चल रहा रिजनल एफएसएल
- जेडीए में किराए की बिल्डिंग में संचालित
- डीएनए से पहले होने वाली बॉयोलिजिकल जांच
- रीजन के सभी जिलों से हर महीने 120 के लगभग पहुंचती हैं बॉयोलिजिकल जांच
- इसकी रिपोर्ट के आधार पर डीएनए जांच का निर्णय लिया जाता है
- पुलिस द्वारा चालान पेश किए जाने में भी इसकी एफएसएल रिपोर्ट अनिवार्य रूप से संलग्न करना होता है

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned