कॉलेज पासआउट 40 हजार छात्रों की होगी ट्रैकिंग, पता करेंगे कितनों को मिली नौकरी

उच्च शिक्षा विभाग जुटाएगा कॉलेजों से पासआउट छात्र-छात्राओं की जानकारी

By: abhishek dixit

Published: 01 Mar 2020, 03:43 PM IST

जबलपुर. उच्च शिक्षा विभाग कॉलेजों से पासआउट छात्र-छात्राओं की जानकारी जुटाएगा। कॉलेजों के पास इन विद्यार्थियों का रेकॉर्ड नहीं होने के कारण उनकी ट्रैकिंग कराई जाएगी। प्राप्त जानकारी से विद्यार्थियों की प्रोफाइल बनाई जाएगी। इसमें छात्रों की वर्तमान स्थिति का भी ब्योरा होगा। जानकारी के अनुसार रादुविवि से सम्बंध 35 शासकीय कॉलेजों के 40 हजार छात्रों को ट्रैक किया जाएगा। टै्रैकिंग का जिम्मा लीड कॉलेजाों को दिया गया है। उच्च शिक्षा विभाग ने कॉलेजों को भी निर्देश दिए हैं।

ये है उद्देश्य
उच्च शिक्षा विभाग कॉलेजों में विभिन्न पाठ्यक्रम संचालित करता है। कई पाठ्यक्रम रोजगारोन्मुखी हैं। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर यह पता लगाया जाएगा कि कितने युवाओं को नौकरी या व्यवसाय की जरूरत है। यह भी पता चलेगा कि किस विषय की पढ़ाई करने वाले युवा ज्यादा बेरोजगार हैं और किस विषय की पढ़ाई करने वाले युवाओं को ज्यादा रोजगार मिल रहे हैं। जो बेरोजगार हैं, उन्हें किस क्षेत्र में रोजगार दिलाया जा सकता है।

ये कॉलेज शामिल
उच्च शिक्षा विभाग प्रदेशभर के करीब 200 कॉलेजों के छात्रों का डेटा बैंक तैयार करवा रहा है। पिछले दो साल में कॉलेज पास आउट छात्रों का रिकार्ड दर्ज होगा। जिले में महाकोशल ऑटोनोमस कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय, शासकीय मानकुंवर बाई कॉलेज, शासकीय होमसाइंस कॉलेज, शासकीय गल्र्स कॉलेज रांझी आदि को इसमें शामिल किया गया है।

नहीं था रेकॉर्ड
इस कवायद से छात्रों का एल्युमिनाई रेकॉर्ड भी तैयार हो जाएगा। इसके माध्यम से उच्च शिक्षा विभाग यह पता लगा सकेगा कि कॉलेज इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार करने, शिक्षण सुविधाएं बढ़ाने में कितने सक्रिय हैं। पिछले साल कुछ कॉलेजों में नैक निरीक्षण के दौरान पता चला था कि कॉलेजों से निकले छात्रों का रेकॉर्ड नहीं है।

प्रदेशभर में 1.5 लाख छात्र होंगे ट्रैक
सूत्रों के अनुसार सर्वे कर प्रदेशभर के करीब 1.5 लाख छात्रों की ट्रैङ्क्षकग कराई जाएगी। रिपोर्ट के आधार पर विद्यार्थियों की स्ट्रीम वाइस सूची बनाई जाएगी। इसमें वल्र्ड बैंक भी सक्रियता दिखा रहा है।

स्नातक और स्नातकोत्तर परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्र-छात्राओं का रेकॉर्ड तैयार कराया जा रहा है। सभी कॉलेजों को निर्देश जारी कर प्राथमिकता के आधार पर इसे करने के निर्देश दिए गए हैं।
डॉ. लीला भलावी, अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा

Show More
abhishek dixit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned