वायरल के साथ पीलिया और टायफाइड का हमला, ये बरतें सावधानी

वायरल के साथ पीलिया और टायफाइड का हमला, ये बरतें सावधानी
Jaundice and typhoid attack with viral

Prem Shankar Tiwari | Publish: Aug, 04 2018 10:04:56 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

मौसम में नरमी-गरमी से बढ़ रही बीमारों की संख्या

जबलपुर। बारिश थमने के बाद बीमारियों का प्रकोप भी तेज हो गया है। मौजूदा दौर में जो नमी का वातावरण है उससे वायरस व बैक्टिरिया लोगों को बीमार कर रहे हैं। वायरल इंफेक्शन के साथ ही मलेरिया, बुखार, जुकाम, और आंखों में संक्रमण, जोड़ों में दर्द, हाथ पैर में दर्द की शिकायत बढ़ रही है। शहर के सरकारी व निजी अस्पतालों में इस बीमारी से पीडि़त मरीजों की संख्या बहुत ज्यादा है। वहीं शहर के अधारताल व गोहलपुर क्षेत्र में बीते एक सप्ताह से लोगों को तेज बुखार के साथ ही जोड़ों में दर्द की शिकायत हो रही है।

बैक्टीरिया सक्रिय
डॉक्टर्स के अनुसार पहले तेज बारिश हुई। इसके बाद बारिश थम गई। धूप कुछ ही देर के लिए निकल रही है। इस कारण अभी नमी के कारण बैक्टिरिया सक्रिय हैं। सर्दी खांसी के कारण गले में इंफेक्शन हो रहा है। संक्रमित व्यक्ति की संपर्क में आने वाले लोग भी बीमार हो रहे हैं। विक्टोरिया जिला अस्पताल में हर रोज उल्टी दस्त से पीडि़त 20 से 30 मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं वहीं निजी अस्पतालों में भी बड़ी संख्या में मरीज पहुंच रहे हैं। इसके अलावा जल जनित रोग पीलिया व टायफाइट के भी केस बढ़ रहे हैं।

गोहलपुर क्षेत्र से आ रहे ज्यादा मरीज
विक्टोरिया जिला अस्पताल सहित अन्य निजी अस्पताल में गोहलपुर, चार खंबा, अधारताल सहित अन्य क्षेत्रों से बुखार के मरीज आ रहे हैं। इन मरीजों को हाथ पैर दर्द के साथ ही तेज बुखार हो रहा है। डॉक्टर्स का कहना है कि बुखार के जो मरीज हैं उनकी मलेरिया स्लाइड बनाई जा रही है वहीं कुछ मरीजों में चिकुन गुनिया का भी संदेह है। क्षेत्रीय पार्षद ताहिर अली के अनुसार बड़ी संख्या में इस बीमारी से लोग ग्रसित हैं। बुखार के साथ ही लोगों के जोड़ों में दर्द हो रहा है। कुछ मरीजों के हाथ पैर शून्य होने की भी शिकायत आ रही है। डॉक्टर्स का कहना है कि ये लक्षण चिकुन गुनिया के भी हो सकते हैं।


ये रखें सावधानी-
- बासी व बाहर का असुरक्षित खाद्य पदार्थ का सेवन न करें
- वायरल इंफेक्शन हुआ है तो बच्चों से दूर रहे, मुंह पर कपड़ा लगाएं
- पानी छानकर, उबालकर ही सेवन करें।
- घरों के आसपास व कूलर में, सकोरों में पानी जमा नहीं होने दें।
- मच्छरदानी का प्रयोग करें। बच्चों को पूरी बांह के कपड़े पहनाएं।
- भोजन से पहले हाथ जरूर साफ करें।
- घर पर नीम की पत्तियों व कपूर का धुआं करें। इससे भी बैक्टीरिया मरते हैं।
- तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल करें।
- चाय में तुलसीपत्र, पीपरामूल, हल्दी, सोंठ आदि डालकर पीना अधिक उपयुक्त होता है।

इनका कहना है
तापमान में बदलाव के कारण वायरस व बैक्टीरिया सक्रिय हो गए हैं। वायरल इंफेक्शन और मच्छर जनित बीमारियां बढ़ रही हैं। उल्टी-दस्त के मरीजों की संख्या भी अधिक है।
डॉ. शिल्पी जैन, विक्टोरिया अस्पताल


मौजूदा मौसम में विशेष सावधानी रखने की आवश्यकता है। अभी डेंगू, मलेरिया, चिकुनगुनिया सहित पीलिया व टायफाइट के मरीज सामने आ रहे हैं।
डॉ. दीपक बहरानी, मेडिसिन विशेषज्ञ

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned