यहां हर दूसरे होती है एक दर्दनाक मौत, ये बन रही वजह

एनएच अथॉरिटी दे रही ध्यान न पुलिस बरत रही सावधानी
एनएच पर तेज रफ्तार से आए दिन हो रहे हादसे, हर माह 15 की मौत

By: Lalit kostha

Updated: 06 Jul 2021, 11:32 AM IST

जबलपुर। राष्ट्रीय राजमार्ग (नेशनल हाइवे) पर वाहनों की तेज रफ्तार हादसों का सबब बन रही है। पिछले सप्ताह नेशनल हाइवे पर हुए हादसों में आधा दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई और एक दर्जन से अधिक घायल हुए। इसके बावजूद न तो नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया इस ओर ध्यान दे रहा है और न ही पुलिस। राष्ट्रीय राजमार्ग की निगरानी करने और कोई हादसा होने पर घायलों को राहत पहुंचाने के लिए नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से पेट्रोलिंग टीम तैनात की गई है। लेकिन, पेट्रोलिंग नजर नहीं आती। हादसे में घायल हुए लोगों की मदद पुलिस या वहां से गुजर रहे लोग करते हैं।

एनएच पर हर माह हादसे (औसतन)
सडक़ हादसे 50
हादसे में मौत 15
घायलों की संख्या 30

रफ्तार पर लगे अंकुश
सेवानिवृत्त पुलिस अधीक्षक अशोक शुक्ला के अनुसार नेशनल हाइवे पर वाहनों की रफ्तार 80 किमी प्रतिघंटा निर्धारित की गई है। इसके बावजूद वाहन चालक 100-120 किमी प्रतिघंटा की गति से वाहन चलाते हैं। इस रफ्तार से हादसा होने पर मौत होने की संभावना अधिक होती है। इसलिए हाइवे पर वाहन चलाते हुए गति पर नियंत्रण रखना आवश्यक है।

जिले की सीमा से गुजरने वाले सभी नेशनल हाइवे पर पुलिस पेट्रोलिंग करती है। तेज रफ्तार में वाहन चलाने वालों पर कार्रवाई भी की जाती है।
- सिद्धार्थ बहुगुणा, एसपी

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned