अस्पताल का किया दौरा, अव्यवस्था देख रह गए भौचक्के

विक्टोरिया जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं को सुधारने के लिए कलेक्टर छवि भारद्वाज द्वारा गठित कमेटी मंगलवार को मैदान पर उतरी

By: amaresh singh

Published: 16 May 2018, 12:42 PM IST

जबलपुर। विक्टोरिया जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं को सुधारने के लिए कलेक्टर छवि भारद्वाज द्वारा गठित कमेटी मंगलवार को मैदान पर उतरी। तीन सदस्यीय समिति ने अस्पताल के विभिन्न वार्डों का जायजा लिया। केंद्र सरकार की योजना के तहत प्रस्तावित सेंट्रल पैथोलॉजी के लिए जगह का मुआयना किया। समिति के सदस्यों को निरीक्षण के दौरान टीबी विभाग में अव्यवस्था मिली। इस पर टीबी विभाग के स्टोर को नई बिल्ंिडग में शिफ्ट करने का सुझाव दिया।


दो घंटे अस्पताल का किया भ्रमण
समिति में नोडल अधिकारी रजत श्रीवास्तव, डॉ. संजय मिश्रा, डॉ. धीरज दंबडे शामिल हैं। सदस्य अस्पताल को व्यवस्थित स्वरुप देने के लिए आवश्यक सुझावों की रिपोर्ट कलेक्टर को सौपेंगे। समिति सदस्यों ने करीब दो घंटे विक्टोरिया अस्पताल का भ्रमण किया। मानसिक रोग विभाग, ओएसटी सेंटर, टीबी विभाग और उसके स्टोर रूम का जायजा लिया। टीम को मरीजों ने बताया कि टीबी विभाग का स्टोर अलग है। काउंसिलिंग और दवा वितरण के लिए अलग-अलग जगह काउंटर है। इससे मरीजों को भटकना पड़ता है।


हंगामे की स्थिति बन गई
पमरे के शहर स्थित केन्द्रीय अस्पताल में मंगलवार की रात एक 88 वर्षीय रिटायर्ड रेलकर्मी की मौत से परिजन आक्रोशित हो गए। इससे अस्पताल में हंगामे की स्थिति निर्मित हो गई। परिजन गलत उपचार से मौत का आरोप लगाने लगे। घटना की जानकारी मिलते ही एमआईसी मेंबर रमेश प्रजापति सहित अन्य लोग भी अस्पताल पहुंच गए। रात दस बजे तक अस्पताल में गहमागहमी का माहौल रहा। जानकारी के अनुसार रिटायर्ड रेलकर्मी हरिलाल रैकवार को दस्त लगने पर शाम को 6 बजे परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे थे। अस्पताल में भर्ती कराए जाने के बाद एक महिला चिकित्सक ने उसका उपचार शुरू किया। उपचार के दौरान रेलकर्मी की मौत हो गई। यह जानकारी लगते ही उसके परिजन एकत्र हो गए। अन्य परिचित भी पहुंच गए और गलत उपचार से मौत का आरोप लगाया जाने लगा। काफी देर तक हंगामे के बाद परिजन शांत हुए।

amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned