लौट आया गर्मी का मौसम, अभी और तपेगा सूरज हवा की बेरुखी से नहीं बरस रहे बादल

बारिश के इंतजार में चढ़ रहा पारा, इधर उमस ने बढ़ाई बेचैनी

By: Lalit kostha

Published: 15 Sep 2020, 10:46 AM IST

जबलपुर। गर्मी का मौसम जाने के बाद बारिश आ गई लेकिन बारिश के थमते ही गर्मी फिर लौट आई है। पिछले दस दिनों से सूरज और बादलों की आंख मिचौली से पारा चढ़ गया है। उमस ने लोगों को बेहाल कर दिया है। कूलर एसी इन दिनों बंद हो जाते थे लेकिन वे अब भी दिन रात चल रहे हैं। मौसम विभाग के अनुसार गर्मी अभी एक सप्ताह तक बनी रहने की संभावना है।

शहर में हल्के बादलों की आवाजाही लगातार बनी हुई है। लेकिन बारिश वाले बादल रुठे हुए हैं। ऊपर की ओर गई ट्रफ लाइन के पोजीाशन पर नहीं लौटने से बूंदाबांदी भी नहीं हो रही है। हल्के बादल और हल्की धूप के बीच पारा धीरे-धीरे चढ़ रहा है। चार दिन में पारा करीब डेढ़ से ढाई डिग्री सेल्सियस तक उछला है। तापमान सामान्य से ज्यादा बना रहा। हवा की धीमी गति से स्थानीय बादल कमाल नहीं दिखा पा रहे हैं। उमस बढऩे के बाद स्थानीय बादल सक्रिय तो हो रहे हैं लेकिन हवा का साथ नहीं मिलने से बरस नहीं रहे हैं। दिन के समय उमस और गर्मी बेचैन कर रही है। अब शाम को भी चिपचिपी गर्मी ने परेशान कर दिया है।

अधारताल स्थित मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार रविवार को अधिकतम तापमान 33.3 और न्यूनतम तापमान 24.8 डिग्री सेल्सियस था। दोनों स्तर पर तापमान में सोमवार को वृद्धि दर्ज की गई। आधा डिग्री बढकऱ अधिकतम तापमान 33.7 डिग्री हो गया। यह सामान्य से तीन डिग्री तक ज्यादा बना रहा। न्यूनतम तापमान में भी आधा डिग्री का उछाल आया। यह 25.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। सामान्य से एक डिग्री ज्यादा रेकॉर्ड किया गया। आद्र्रता सुबह के समय 83 प्रतिशत और शाम को 67 प्रतिशत थीं। उत्तर-पश्चिम हवा 2 किमी प्रतिघंटा की गति से चली। सीजन में अभी तक 986.7 मिमी वर्षा हुई है। मौसम विज्ञान केंद्र में वैज्ञानिक सहायक के अनुसार ऊपर की ओर निकल गई ट्रफ लाइन पोजीशन में लौट रही है। बंगाल की खाड़ी और आंध्र प्रदेश के कोस्टल एरिया में एक सिस्टम बनने की सम्भावना है। अभी हवा की दिशा बारिश वाले बादलों के अनुकूल नहीं है। ट्रफ लाइन के पोजीशन पर आने के बाद वर्षा की सम्भावना बन सकती है। फिलहाल स्थानीय बादलों के प्रभाव से छिटपुट या हल्की खंड वर्षा होती रहेगी। मंगलवार को सम्भाग के जिलों में कुछ स्थानों पर वर्षा या गरज-चमक के साथ बौछार का अनुमान है।

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned