दिन जैसी तप रही रातें, मप्र में सबसे ज्यादा हुआ तापमान

दिन जैसी तप रही रातें, मप्र में सबसे ज्यादा हुआ तापमान

By: Lalit kostha

Published: 24 May 2018, 09:41 AM IST

जबलपुर। दिन में तेज धूप और रात में गर्म हवाओं की लपट से शहरवासी परेशान हैं। आग उगलती गर्मी को न हरियाली की ढाल मिल पा रही है, न ही वाष्पीकरण के लिए जलस्रोतों में पर्याप्त पानी है। पिछले छह साल के रेकॉर्ड के अनुसार इस बार मई सबसे अधिक गर्म रहा। मौसम विज्ञानियों के अनुसार आगामी दिनों में तापमान में और वृद्धि होगी। मौसम विभाग के वैज्ञानिकों के अनुसार मई का औसत तापमान 42.4 डिग्री सेल्सियस है। पिछले छह साल में जिन वर्षों में अधिकतम तापमान ज्यादा था, उन वर्षों में औसत तापमान कम है।

about- छह साल में सबसे ज्यादा मई का औसत तापमान

जलवायु असंतुलन से बढ़ रही गर्मी
जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. मनीष भान के अनुसार इस साल मई में ज्यादा दिन तापमान अधिक रहने से औसत तापमान और गर्मी बढ़ी है। यह जलवायु असंतुलन का संकेत है। पर्यावरणविद् और साइंस कॉलेज से रिटायर्ड प्रो. एचबी पालन ने बताया, तापमान बढ़ते ही जलस्रोतों के वाष्पीकरण से बादल बनते हैं। शहर में पेड़ों की अंधाधुंध कटाई और जलस्रोतों में पानी कम होने से इस बार गर्मी बढ़ी है। यह स्थिति सचेत करने वाली है।

बदलों ने बढ़ाई उमस
शहर में बुधवार को बादलों के कारण गर्मी और उमस बढ़ी। तेज धूप और चार किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चली पश्चिमी हवा के कारण पंखा-कूलर चलाने के बाद भी लोग पसीने से तरबतर रहे। बुधवार को अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक ४३.१ और न्यूनतम तापमान दो डिग्री अधिक ३० डिग्री सेल्सियस रहा। सुबह और शाम की आद्र्रता क्रमश: ३८ और २५ प्रतिशत रही। मौसम विभाग के वैज्ञानिक सहायक डीएस घाटे के अनुसार उत्तरी यूपी से पूर्वी मप्र होते हुए कर्नाटक तक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बनने से बादल और नमी आई। आगामी २४ घंटों में गरज-चमक के साथ बारिश या बौछारें पड़ सकती हैं।

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned