scripthousing project,Municipal Corporation TCP or registration of RERA | कई अड़ंगे, रुक रही रियल इंडस्ट्री की रफ्तार | Patrika News

कई अड़ंगे, रुक रही रियल इंडस्ट्री की रफ्तार

शहर के बिल्डर्स ने कहा समय पर नक्शा और रेरा रजिस्ट्रेशन मिले तो होगा विकास

जबलपुर

Updated: September 14, 2022 11:56:07 am

जबलपुर. शहर के विकास में प्रमुख भूमिका निभाने वाली रियल इस्टेट इंडस्ट्री में कई अड़ंगे हैं। चाहे नगर निगम और टीएंडसीपी से नक्शे पास कराना हो या रेरा के रजिस्ट्रेशन, वे समय पर नहीं होते। ऐसे में बिल्डर्स के लाखों रुपए फंसे रहते हैं। ग्राहकों को भी समय पर मकान नहीं मिल पाता है। कुछ इसी तरह की समस्याएं पत्रिका के टॉक शो में शहर के बिल्डर्स ने रखी।

builders
The real estate industry, which plays a major role in the development of the city, has many hurdles

बिल्डर्स का कहना है कि वे एक हाउसिंग प्रोजेक्ट ही नहीं बनाते या अकेले उनका इसमें फायदा नहीं होता। यह इंडस्ट्री शहर की अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा देती है। बाजार में उठाव लाती है। हजारों हाथों को रोजगार मिलता है। फिर भी इसकी अनदेखी होती है। ऐसे में समय पर प्रोजेक्ट पूरे नहीं होते। बैंकों से जो ऋण लिया जाता है, उस पर ब्याज लगातार बढ़ता है। इसलिए शासन और प्रशासन के साथ ही उन संस्थाओं को इस पर गंभीरता से ध्यान जो कि कहीं न कहीं हाउसिंग प्रोजेक्ट से जुड़ी हैं।

400 से अधिक छोटे और बडे़ प्रोजेक्ट

जबलपुर में 400 से अधिक छोटे और बडे़ प्रोजेक्ट चल रहे हैं। उनमें लगभग 250 रेरा से स्वीकृति के लिए लंबित हैं। यदि उन्हें समय पर रजिस्ट्रेशन मिलत है तो आवासीय इकाइयां सीधे ग्राहकों के लिए उपलब्ध हो जाएं। बिल्डर्स का कहना है कि प्रोजेक्ट पूरे हो जाते हैं लेकिन रेरा का रजिस्ट्रेशन नहीं मिल पाता है। जबकि दूसरी तरफ जो अवैध कॉलोनियां तैयार करते हैं, उन्हें इस तरह की कोई परेशानी नहीं हेाती। लेकिन नियम से काम करने वालों को कई तरह की अनुमति लेनी पड़ती हैं।

यह दिए सुझाव

- जबलपुर सहित दूसरे शहरों में भी खोली जाएं रेरा की शाखा।

- नगर निगम से नक्शा पास होने के नियम सरल हों।

- श्रम उपकर को एक साथ नहीं बल्कि किश्तों में लिया जाए।

- फायर एनओसी देने वाले विभाग में पर्याप्त स्टाफ हो।

कई अड़ंगे रुक रही रियल इंडस्ट्री की रफ्तारक्या कहते हैं बिल्डर्स

अन्य राज्यों की तुलना में मप्र में रियल इस्टेट के लिए कई सारे नियम हैं। बिल्डर्स को अपने प्रोजेक्ट के लिए भारी जद्दोजहद करनी पड़ती है। नगर निगम से लेकर टीएंडसीपी से नक्शा पास कराना काफी कठिन होता है।
सुधीर दत्त

शहर के विकास में हाउसिंग सेक्टर की बड़ी भूमिका है। यह क्षेत्र रोजगार देता है। कई तरह के कारोबार भी इससे चलते है। लेकिन इस व्यवसाय को संस्थानों का सहयोग नहीं मिलता। उसे प्रक्रियाएं पूरी करवाने में दिक्कतें होती हैं।
राजेश जैन पिंकी

यह ऐसा क्षेत्र है जो कि शासन को बड़ा राजस्व देता है। फिर भी प्रशासन इस कारोबार को करने वालों को सीधी नजर से नहीं देखता। नक्शे पास करवाने में सालों लग जाते हैं। इसलिए इस इंडस्ट्री से जुडे़ नियमों को सरल करना चाहिए।
आलोक मिश्रा

जबलपुर में रियल इस्टेट के कई प्रोजेक्ट चल रहे हैं। बिल्डर्स को इनके लिए कई सारी प्रक्रियाएं पूरी करनी पड़ती हैं। एक में अधूरी रह जाए तो प्रोजेक्ट में बाधा आती है। रेरा रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को भी सरकार को सरल करनी चाहिए।
धीरेश खरे

रेरा रजिस्ट्रेशन के लिए काफी दिक्कतें होती हैं। इसके बिना अब प्रोजेक्ट कंपलीट नहीं माना जाता है। इसके बगैर यूनिट बेचना भी मुश्किल होता है। इसी प्रकार ईडब्ल्यूएस को लेकर भी दबाव डाला जाता है।
दीपक अग्रवाल

हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए कई तरह की अनुमतियां लेनी पड़ती है। नगर निगम से नक्शा पास हो जाए तो समझो 50 प्रतिशत काम हो गया। इसमें देरी होती है। यही हाल टीएंडसीपी को लेकर रहता है।
प्रतीक अग्रवाल

शहर में काफी संख्या में हाउसिंग प्रोजेक्ट चल रहे हैं। इनमें नई तकनीक अपनाई जा रही है। लेकिन यह तभी पूरे माने जाते हैं जब इनसे जुड़ी सभी अनुमतियां समय पर मिल जाए। इसलिए सिंगल विंडो सिस्टम पर गंभीरतापूर्व काम होना चाहिए।
महेश केमतानी

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

गाय को टक्कर मारने से फिर टूटी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन की बॉडी, दो दिन में दूसरी ऐसी घटनाभैंस की टक्कर से डैमेज हुई वंदे भारत ट्रेन, मजबूती पर सवाल उठे तो सामने आया रेलवे मंत्री का जवाबगाज़ियाबाद में दिन-दहाड़े डकैती, कारोबारी की पत्नी-बेटी को बंधक बनाकर 17 लाख के ज़ेवर और 7 लाख रुपए नकद लूटेउत्तरकाशी हिमस्खलन में बरामद किए गए 7 और शव, मृतकों की संख्या बढ़कर 26 हुई, 3 की तलाश जारीNobel Prize 2022: ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट एलेस बियालियात्स्की समेत रूस और यूक्रेन की दो संस्थाओं को मिला नोबेल पीस प्राइजयुद्ध का अखाड़ा बनी ट्रेन! सीट को लेकर भिड़ गईं महिलाएं, जमकर चले लात-घूसे, देखें वीडियोलद्दाख में लैंडस्लाइड की चपेट में आए 3 सैन्य वाहन, 6 जवानों की मौतउत्तर से दक्षिण भारत तक बारिश का अलर्ट, कर्नाटक के विभिन्न हिस्सों में बारिश जारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.