नैक परीक्षा पर बड़ी खबर, विभागों ने बनाया ये बहाना

विश्वविद्यालय में प्रभावित हुई तैयारियां, विभागों से तैयारी नहीं हो सकी रिपोर्ट

 

 

By: Lalit kostha

Published: 04 May 2021, 01:12 PM IST

जबलपुर। कोरोना संक्रमण के चलते रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय की ओर से नैक की तैयारियों को झटका लगा है। लॉकडाउन के बहाने शिक्षण विभागों ने भी अपनी-अपनी रिपोर्ट तैयार करने में हाथ पीछे कर लिए। ऐसे में नैक सेशन अगले 4 से 6 माह तक टलने के आसार बन गए हैं। नैक को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने तीन माह पहले से ही तैयारियां शुरू कर दी गई थी। विश्वविद्यालय की ग्रेडिंग बढ़ाने के लिए शहर उत्कृष्ट ग्रेड प्राप्त करने वाले शिक्षा संस्थानों की भी मदद ली जा रही थी। लेकिन, यह तमाम तैयारियां प्रभावित हो गई हैं। नैक को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने कमेटी बनाई, ताकि गतिविधियों को तेजी से आगे बढ़ाया जा सके। लेकिन, लगातार बढ़ते लॉकडाउन के चलते यह कमेटी भी निष्प्रभावी होकर रह गई।

शैक्षणिक स्तर सुधारने का दबाव- विश्वविद्यालयों को शैक्षणिक स्तर सुधारने का भारी दबाव है। प्रदर्शन को सुधारने के लिए राजभवन से लेकर उच्च विभाग भी सक्रिय है। हर हाल में विश्वविद्यालयों को ए और ए प्लस ग्रेड में लाने के लिए कहा गया है। रादुविवि फिलहाल बी ग्रेड पर अटका है। कई अन्य विवि की भी यह स्थिति है। इस मामले में नैक समन्वयक प्रो. राजेश्वरी राणा का कहना है कि विवि निर्धारित लक्ष्यों की पूर्ति के लिए काम कर रहा है यह जरूर है कि लॉकडाउन के चलते तैयारियां प्रभावित हुई हैं।

एसएसआर रिपोर्ट ही तैयार नहीं
जानकारों का कहना है कि नैक की तैयारियों को लेकर सेल्फ स्टडी रिपोर्ट तैयार की जानी थी। इसके लिए हर शिक्षण विभाग से विश्वविद्यालय प्रशासन ने प्रगति रिपोर्ट मांगी थी। ताकि, संयुक्त रिपोर्ट तैयार की जा सके। कुछ विभागों ने इस पर काम भी किया, लेकिन अधिकतर विभागों ने कोरोना और लॉकडाउन की आड़ लेकर रिपोर्ट तैयार करने में चुप्पी साध ली। ऐसे में रिपोर्ट तैयार कर भेजी ही नहीं जा सकी। दूसरी और विश्वविद्यालय के इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने के साथ ही जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने की तैयारियां भी पूरी नहीं हो सकीं।

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned