Dastak campaign- डायरिया, दस्त और कुपोषण की चपेट में सैकड़ों नौनिहाल : देखें वीडियो

Tarunendra Singh Chauhan

Updated: 26 Jun 2019, 09:55:41 PM (IST)

Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

जबलपुर. स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग सहित प्रशासन द्वारा कुपोषण को मिटाने के लिए तमाम प्रयास किए जा रहे हैं लेकिन सिहोरा ब्लाक में यह प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं। नियमित मॉनिटरिंग और योजनाओं का सही तरीके से क्रियान्वयन न होने से तहसील में कुपोषण लगातार बढ़ रहा है। मध्य प्रदेश शासन स्वास्थ्य विभाग द्वारा दस्तक अभियान की शुरुआत में ही नौनिहाल बीमारियों से ग्रसित पाए गए, जो शासन की योजनाओं की पोल खोल रहे हैं।

149 बच्चे डायरिया से पीडि़त
नौनिहाल न सिर्फ कुपोषण से जकड़े हुए हैं बल्कि गंभीर की बीमारियों से भी ग्रसित मिल रहे हैं। 10 जून से शुरू हुए दस्तक अभियान में तहसील में नौनिहालों की स्थिति सामने आ रही है। 25 जून तक हुई बच्चों की स्क्रीनिंग के आंकड़े चौकाने वाले हैं। सिहोरा ब्लॉक के 8 सेक्टरों में 161 दलों द्वारा अब तक गांव की नब्ज टटोली गई है जिसमें 5 वर्ष तक के 4470 बच्चों की स्क्रीनिंग अब तक हुई है। इसमें 283 बच्चे ऐसी हालत में मिले हैं जो किसी ना किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं और उन्हें तत्काल उपचार की जरूरत है दलों द्वारा ऐसे बच्चों को समीप स्थित सिविल हॉस्पिटल या पोषण पुनर्वास केंद्र रेफर किया गया।

तहसील में बच्चे सिर्फ कुपोषण से ही नहीं डायरिया और दस्त जैसी गंभीर बीमारियों से ग्रसित हैं। 104 बच्चे दस्त से पीडि़त पाए गए वहीं 45 बच्चे डायरिया की समस्या से जूझते मिले। जांच के दौरान 21 बच्चे गंभीर कुपोषण का शिकार अभी तक मिले हैं जिन्हें तत्काल सिहोरा हॉस्पिटल के एनआरसी सेंटर में भर्ती किया गया है। 13 बच्चे जन्मजात विकृति संयुक्त मिले हैं जिन्हें उपचार के लिए पहल की जाएगी। सिहोरा नगरीय क्षेत्र की बात की जाए तो 8 बच्चे गंभीर कुपोषण के शिकार अभी तक मिले हैं।

ये है स्थिति
1. सिहोरा ब्लॉक में 10801 बच्चे दस्तक अभियान के लिए हुए डिजिटाइज्ड
2. अभियान में अभी तक 2,000 से अधिक बच्चों को वितरित की गई है आवश्यक दवाएं
3. ब्लॉक में 225 से अधिक गांव और 18 नगरी क्षेत्र के वॉर्डों क्या हुआ डिजिटाइजेशन
4. ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतर बच्चे डायरिया और गंभीर कुपोषण से ग्रसित मिले।

इस संबंध में बीपीएम वीरेन्द्र मेहरा का कहना है कि ब्लॉक में दस्तक अभियान चल रहा है। अभियान के माध्यम से बच्चों को चिन्हित कर गंभीर रूप से कुपोषित बच्चों को एनआरसी सहित अन्य माध्यमों से उपचार कराकर स्वस्थ करने का प्रयास किया जा रहा है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned