स्कूल लगा नहीं तो फिर क्यों दें दो माह की फीस

सेंट ग्रेबियल स्कूल में मई-जून की फीस पर भडक़े अभिभावक स्कूल प्रबंधन के खिलाफ किया प्रदर्शन, अवकाश के दिनों की फीस लिए जाने का किया कड़ा विरोध, निर्णय वापस नहीं हुआ तो होगा उग्र आंदोलन

By: Mayank Kumar Sahu

Published: 25 Jul 2019, 12:07 PM IST

जबलपुर।

स्कूल प्रबंधन द्वारा मई और जून की फीस के खिलाफ रांझी के सेंट ग्रेबियल स्कूल के सामने हंगामा किया गया। अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया और जबरिया फीस लिए जाने का विरोध जताया। घटना की जानकारी लगने पर पुलिस मौके पर पहुंची और अभिभावकों को शांत कराया। स्कूल प्रबंधन ने कमेटी के समक्ष प्रस्ताव रख निर्णय लेना का आश्वासन दिया। अभिभावकों का कहना है कि शासन और न्यायालय से यह स्पष्ट निर्देश है कि मई-जून की फीस नहीं ली जाएगी, लेकिन स्कूल में इसका पालन नहीं किया जा रहा है। हंगामे की खबर मिलते ही रांझी पुलिस मौके पर पहुंची। टीआई रांझी मनजीत सिंह ने प्रदर्शनरत अभिभवकों को समझाईश दी।

पहले ही जता चुके विरोध

राजेश कुमार, रोहित, शशिकांत आदि ने कहा कि जब अवकाश के दिन स्कूल खुले ही नहीं तो फिर अभिभावक अवकाश के दिनों की फीस क्यों दे। फीस लिए जाने को लेकर पहले ही अभिभावकों द्वारा विरोध दर्ज कर दिया गया था लेकिन इसके बाद भी स्कूल प्रबंधन न तो अभिभावकों से मुलाकात की न ही कोई आश्वासन दिया। अभिभावकों को मैसेज देकर फीस देने के लिए कहा गया। जब अभिभावक मिलने पहुंचे तो फादर ने मिलने से इंकार कर दिया। जिसके बाद अभिभावकों ने हंगामा कर दिया। स्कूल में हावी है मनमानी

अभिभावकों ने आरोप लगाए कि स्कूल में लगातार मनमानी की जा रही है। फीस में हरसाल मनमानी बढ़ोत्तरी कर दी जाती है तो वहीं ड्रेस, किताब कापियां भी निश्चित दुकानों पर ही मिलती है। कमीशनखोरी के चलते शिक्षा महंगी होती जाने के कारण बजट बिगड़ रहा है। अभिभावक मनमानी से त्रस्त हैं लेकिन स्कूल प्रबंधन पर कोई भी कार्रवाई प्रशासन द्वारा की जा रही है।

-दस माह की फीस लेने के संबंध में कोई स्पष्ट आदेश नहीं हैं। अप्रैल-मई में शिक्षकों को वेतन देना पड़ता है। यह पैसा कहां से आएगा। अभिभावकों को इस संबंध में बता दिया गया है। अभिभावकों द्वारा नजायज विरोध किया जा रहा है।

-फादर जॉय जोसफ, प्राचार्य सेंट ग्रेबियल स्कूल रांझी

Mayank Kumar Sahu Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned