scriptincreasing crimes in Jabalpur city | पूछते हैं लोग... अपराधी गलियों के बजाय पुलिस चौकी के सामने से भागेंगे क्या? | Patrika News

पूछते हैं लोग... अपराधी गलियों के बजाय पुलिस चौकी के सामने से भागेंगे क्या?

जबलपुर शहर में बढ़ते अपराधों के बीच पुलिस की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल

 

जबलपुर

Published: April 02, 2022 07:19:51 pm

श्याम बिहारी सिंह @ जबलपुर। आपराधिक वारदातें जबलपुर शहर में थमने का नाम नहीं ले रहीं। उधर, वारदातों पर लगाम लगाने के लिए पुलिस की कार्यप्रणाली 'गजब की है। वह जिस अंदाज में काम करती है, उसे देखकर कोई भी सवाल उठा सकता है। एक बड़ा सवाल आम लोग उठाते हैं कि वारदात को अंजाम देकर बदामाश भागेंगे कहां से? उत्तर में यह भी कहा जाता है कि कम से कम मुख्य मार्ग से तो नहीं भागेंगे। लेकिन, पुलिस देर रात गश्त के नाम पर मॉडल रोड पर, वह भी पुलिस चौकी के सामने जांच करती है। इसके अलावा बल्देव बाग, अधारताल, कांचघर चौक-चौराहों पर भी पुलिस खानापूर्ति करती दिख जाएगी। मतलब, फर्राटा भाग रहे वाहनों को नहीं रुकवाया जाता। रुकवाया उन्हें जाता है, जो पुलिस को देखकर खुद ही रुक जाते हैं।
हर मामले में नाकामी
शहर में अपराधों का ग्राफ नीचे आने का नाम नहीं ले रहा। चोरियां तो शहर में ऐसे हो रही हैं, जैसे यह बच्चों का खेल है। हालत यह है कि दो-चार घंटों के लिए भी किसी का घर सूना हुआ, तो ताला टूटना तय है। पुलिस गश्त गली-मोहल्लों में शहर के किसी भी हिस्से में नहीं दिखती। रात्रिकालीन गश्त के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जाती है। जानकारों के अनुसार पुलिस बीट प्रणाली लागू कर दे, तो हद तक चोरी की वारदातों में कमी आ सकती है। लेकिन, देखने में आ रहा है कि बीट प्रणाली शायद पुलिस की डायरी से बाहर होती जा रही है। इससे बदमाशों की पहचान मुश्किल हो गई है।
धरपकड़ का दावा हवा-हवाई
वारदातें रोक पाने में तो पुलिस फेल है ही, धरपकड़ में भी फिसड्डी है। हाल-फिलहाल में शहर में बड़ी वारदात 11 फरवरी को तिलहरी में हुई थी। एटीएम कैश वैन के गनमैन को गोली मारकर बदमाशों ने 33 लाख रुपए की लूट की थी। पुलिस किस कदर फेल हुई, इसका अंदाजा इस बात से लग सकता है कि आरोपी मनोज पाल और सुनील वारदात के बाद रातभर शहर में ही रहे। उधर, पुलिस जाने कहां-कहां नाकाबंदी और जांच करने का दावा करती रही। इससे भी बड़ी बात यह थी कि बदमाश दो माह से रैकी कर रहे थे। बदमाशों के रुकने की जगह का सुराग लगाने में पुलिस को सप्ताह भर लग गए। लूटकांड जैसी वारदात के बाद पुलिस ऐक्शन मोड में होने का दावा कर रही थी। फिर भी दो मार्च को गोसलपुर निवासी रेत कारोबारी मलखान सिंह के बेटे राहुल का अपहरण हो गया। उसका शव आठ मार्च को घर से साढ़े तीन किमी दूर मिला। पुलिस यहां भी कुछ नहीं कर पाई। एक स्थानीय रहवासी ने नरकंकाल देखकर पुलिस को सूचना दी, तब हत्याकांड का पता चला।
पुलिस प्वाइंट से लाइव
तीन पत्ती से मॉडल रोड पर शास्त्री ब्रिज की ओर बढ़ें। पुराना बस स्टैंड पुलिस चौकी के सामने नगर निगम के मेट्रो बस स्टॉप के आस-पास रात में पुलिस जवानों के सामने रात 1.30 तक पोहा, पान-चाय-गुटखा बिकता दिख जाएगा। लोग आराम से गपशप करते दिख जाएंगे। कभी-कभार पुलिस वाले भी पोहा खाते दिख जाएंगे। हालांकि, पुलिस वाले पोहा खा रहे हैं, यह कोई अचम्भा नहीं है। अचम्भा यह है कि एक दो दिन बाद उसी जगह पर पुलिस वाले ही ल_ लेकर पोहा, चाय-गुटखा बेचने वालों को खदेड़ते नजर आएंगे। ऐसे में लोग तो पूछेंगे ही कि आखिर अलग-अलग दिन नियम बदलता क्यों रहता है?

police
police

पुलिस रोजाना रात 12 से सुबह पांच बजे तक शहर और देहात के थाना क्षेत्रों में गश्त करती है। रोजाना अलग-अलग अधिकारी और जवान इसके लिए तैनात किए जाते हैं। कई बार जहां फिक्स प्वाइंट लगाए जाते हैं। पुलिस लगातार थाना क्षेत्र में रात्रि गश्त के दौरान भ्रमण करती है। मुसाफिर चैकिंग लगाकर भी देर रात सडक़ों पर निकलने वालों के नाम पते दर्ज करते जाते हैं।
गोपाल खांडेल, एएसपी, क्राइम ब्रांच

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.