मध्यप्रदेश केे इस शहर में बनेगी 'शारंग' तोप, भारतीय सेना को मिलेगी और मजबूती

मध्यप्रदेश केे इस शहर में बनेगी 'शारंग' तोप, भारतीय सेना को मिलेगी और मजबूती
Indian Army

Abhishek Dixit | Publish: Mar, 19 2019 10:10:10 AM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

150 से ज्यादा शारंग तोप तैयार करेगा वीएफजे

जबलपुर. सेना को छोटे-बड़े वाहन बनाकर देने वाली वीकल फैक्ट्री जबलपुर (वीएफजे) अब तोप बनाने में भी महारथ हासिल करेगी। यहां सबसे बड़ा प्रोजेक्ट शारंग तोप को लेकर शुरू हो रहा है। गन कैरिज फैक्ट्री की तरह यहां भी करीब 150 तोप बनायी जाएंगी। यही नहीं सेना के पास अनुपयोगी करीब 80 हजार 7.6 एसएलआर राइफल को मॉडिफाइड कर उसे ड्रिल प्रैक्टिस के लिए तैयार किया जाएगा। यह जानकारी फैक्ट्री के महाप्रबध्ंाक गोविंद मोहन ने रविवार को पत्रकार वार्ता में दी।

आयुध निर्माणी दिवस पर वाहनों की रैली के सम्बंध में आयोजित पत्रकारवार्ता में महाप्रबंधक ने बताया कि अब फैक्ट्री को गन फैक्ट्री के रूप में भी जाना जाएगा। ऐसे प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं, जिसे सीधे सेना को ईशू किया जाए। इसके लिए अतिरिक्त संसाधन जुटाना शुरू कर दिया है। अभी सेना के पास इन सर्विस 7.6 एसएलआर राइफल थीं उन्हें अपग्रेड किया जाएगा। इस प्रोजेक्ट के तहत गन में ऐसे बदलाव किए जाएंगे जिससे कि इसका इस्तेमाल ड्रिल के काम में लिया जा सके। इसे गन को डमी बनाना भी कहा जा सकता है। राइफल का इस्तेमाल एनसीसी के अलावा होमगार्ड और सुरक्षा से जुड़े अन्य विभाग कर सकेंगे।

महाप्रबंधक ने बताया कि फैक्ट्री में राइफल आ चुकी हैं। इसका अभ्यास भी किया गया है। त्रिचनापल्ली आयुध निर्माणी में कर्मचारियों ने इसका प्रशिक्षण लिया है। जल्द ही इसे बनाकर ट्रायल के लिए दिया जाएगा। इस दौरान एजीएम पीके दीक्षित, ओपी तिवारी, सीएल रावत, वीबी पचनंदा, जेजीएम एके राय, डीएन वर्मा के अलावा रूपेश मिश्रा उपस्थित थे।

लाइट फील्ड गन भी बनेगी
महाप्रबंधक गोविंदमोहन ने जानकारी दी कि हम 105 एमएम लाइट फील्ड गन (एलएफजी) का काम भी वीएफजे में करने वाले हैं। अभी यह काम गन कैरिज फैक्ट्री में होता है। बड़ा प्रोजेक्ट मॉडिफाइड माइन प्रोटेक्टिड वीकल है, उसका नियमित उत्पादन जल्द शुरू होगा।

क्या है शारंग
रूस की सोल्टम तोप 130 एमएम को 155 एमएम में अपग्रेड किया गया है। इसे शारंग नाम दिया गया है। इसकी क्षमता और संचालन की प्रक्रिया सरल हुई है। अभी कानपुर आयुध निर्माणी और जीसीएफ इस काम को अंजाम दे रही हैं, इसमें वीएफजे भी भागीदारी करेगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned