MP में पकड़ा गया अंतर्राष्ट्रीय cryptocurrency ठग

-भोपाल एसटीएफ ने जबलपुर से पकड़ा cryptocurrency के नाम पर ठगने वाले को
-26 देशों के आठ हजार लोगों से ठगी का आरोप

By: Ajay Chaturvedi

Published: 18 Jul 2021, 06:11 PM IST

जबलपुर. अंतर्राष्ट्रीय ठग जो cryptocurrency के नाम पर लोगों को ठगता रहा है। आरोप है कि उसने दुनिया के 26 देशों के आठ हजार से ज्यादा लोगों को ठगा है, उसे भोपाल एसटीएफ ने जबलपुर से इस ठग को गिरफ्तार कर लिया।

भोपाल एसटीएफ की गिरफ्त में आए रूपिंदर सिंह छाबड़ा से कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। उसने एसटीएफ को बताया है कि उसने कुछ विदेशी लोगों से ठगी का हुनर सीखा। छाबड़ा पर जबलपुर में पौने दो करोड़ की ठगी का आरोप है। बताया जा रहा है कि छाबड़ा अकेला नहीं है, बल्कि उसका बड़ा नेटवर्क है जो भोपाल, रायपुर, मुंबई, चंडीगढ़, दिल्ली, जालंधर, अमृतसर और दिल्ली सहित कई शहरों तक फैला है। आरोपी एक सदस्य बनाने पर 30 प्रतिशत तक कमीशन देते थे। रूपिंदर सिंह छाबड़ा ने पूर्व के आरोपियों के खुलासे की भी पुष्टि की है।

एसटीएफ की पूछताछ में पता चला है कि छाबड़ा और उसका गिरोह 2017 से 2019 के बीच इस गिरोह ने भारत के अलावा हांगकांग, चीन, दुबई, मलेशिया, श्रीलंका, नेपाल, भूटान सहित 26 छोटे-बड़े देशों में रह रहे 8 हजार 372 लोगों से ठगी कर चुका था। इसमें 70 प्रतिशत एनआरआई थे। आरोपी सभी को क्रिप्टोकरेंसी (प्लस गोल्ड यूनियन क्वाइन) में निवेश का लालच देकर मोटा मुनाफा कमाने के झांसे में फंसाते थे। इस रकम को वे जमीन, मकान, दुकान, मुजरा नाइट, बॉलीवुड हाइट्स, गोवा में कसीनो, एपी-3 मॉशन पिक्चर्स प्रोडक्शन, महफिल-ए-उमराव जान आदि में निवेश किए थे।

आरोपी मदनमहल जबलपुर निवासी रूपिंदर पाल सिंह छाबड़ा, मल्टीलेवल मार्केटिंग के तर्ज पर व्यापार करता था। इस गिरोह में भोपाल निवासी राजीव शर्मा, जबलपुर शक्ति नगर निवासी ब्रजेश रैकवार, उसकी पत्नी सीमा, विनीत यादव और मुंबई के वर्ली में रहने वाला रूपेश राय शामिल थे। गिरोह हांगकांग में रहने वाले केविन और मलयेशिया में रहने वाले डेनियल फ्रांसिस से मिलकर ये ठगी का धंधा चला रहा था। आरोपियों ने अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की आड़ में क्रिप्टोकरेंसी को भारतीय स्वरूप देते हुए पीजीयूसी (प्लस, गोल्ड यूनियन क्वाइन) नाम से वेबसाइट बनाया था।

क्रिप्टोकरेंसी के नाम पर ठगी की वारदात करने वाले इस गिरोह का खुलासा एसटीएफ ने जून 2019 में किया था। तब गिरफ्त में आए आरोपियों की पूछताछ में यह पता चला था कि सरगना वर्ली मुंबई निवासी रूपेश राय है। राय होटल और रियल एस्टेट कारोबारी है। रैकवार दंपती जहां दिल्ली से काम संभाल रहे थे। वहीं जबलपुर मदनमहल निवासी रूपिंदर पाल सिंह छाबड़ा को जबलपुर सहित छत्तीसगढ़ का मुखिया बनाया था। छाबड़ा का रियल एस्टेट, होटल और इवेंट मैनेजमेंट का कारोबार था, जबकि भोपाल का राजीव शर्मा वहां से निवेशकों को लुभाता था। इस गिरोह ने 100 करोड़ से अधिक की ठगी की है।

गिरोह का सरगना रूपेश राय 10वीं पास डिप्लोमाधारी और एयर कंडीशनर का टेक्नीशियन था लेकिन क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कराकर ठगने के लिए आरोपियों ने हांगकांग के शेयर बाजार की एक फर्जी वेबसाइट भारत में बनाई। इसका सर्वर जयपुर में लगाया। देखने में ये वेबसाइट बिल्कुल हांगकांग के शेयर बाजार की तरह ही लगती थी। लोग भ्रमित होकर इस वेबसाइट को हांगकांग के शेयर बाजार की समझ क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने लगे थे।

आरोपी, निवेशकों को लुभाने के लिए मुंबई, दिल्ली, चंडीगढ़, भोपाल, रायपुर, जालंधर, अमृतसर जैसे शहरों में मीटिंग और बड़ी पार्टी की। मगर 2017-18 में आभासी मुद्रा (वर्चुअल करेंसी) की कीमतें तेजी से गिरीं तो यह कारोबार भी प्रभावित हुआ। दिसंबर 2017 में सी सेंक्स एक्सचेंज बंद हो गया तो ब्रजेश-रूपेश और उनके साथियों ने प्लस गोल्ड यूनियन क्वाइन शुरू किया था। इसका सर्वर जयपुर में है और वहीं से कारोबार चलाते थे।

आरोपी क्रिप्टोकरेंसी के माध्यम से निवेश के लिए लोगों को प्रलोभन देते थे कि उन्हें हर महीने 20 से 30 प्रतिशत मुनाफा होगा। आरोपी लोगों से 3-15 लाख रुपए तक निवेश कराते थे। निवेशक को वे चेन बनाने का लालच देते और नए निवेशक लाने पर 30 प्रतिशत तक कमीशन देते थे। 26 जून 2019 को इस मामले में आरोपियों पहले ब्रजेश उसकी पत्नी सीमा, विनीत फिर राजीव शर्मा सहित अन्य की गिरफ्तारी हुई थी। उसके बाद 8 सितंबर 2019 को रूपेश रॉय ने खुद सरेंडर कर दिया था। पर जबलपुर मदनमहल निवासी रूपिंदर पाल सिंह छाबड़ा लगातार छिप कर काम को अंजाम देता रहा। उसकी गिरफ्तारी पर 10 हजार रुपए का इनाम घोषित था।

क्रिप्टोकरेंसी में गिरावट होने के बाद जब निवेशकों ने पैसे वापस मांगने लगे तो रूपिंदर पाल सिंह छाबड़ा ने जबलपुर के गढ़ा में तो राजीव शर्मा ने भोपाल एसटीएफ में 2018 में मामले की शिकायत की थी। दोनों ही मामले में जबलपुर शक्तिनगर निवासी ब्रजेश रैकवार उसकी पत्नी सीमा और रूपेश राय के खिलाफ शिकायत की और खुद को पीड़ित बताया था। रूपिंदर ने जबलपुर में परिचितों और करीबियों से पौने दो करोड़ रुपए के निवेश कराए थे। एसटीएफ ने जांच आगे बढ़ाई और 26 जून 2019 को जब दुबई से लौटे रैकवार दंपती को जबलपुर से गिरफ्तार किया, तब छाबड़ा और राजीव शर्मा की चालाकी का खुलासा हुआ था। बाद में उन्हें भी आरोपी बनाया गया था। तब ब्रजेश की पत्नी के खाते में चार करोड़ रुपए मिले थे।

जानें क्या है क्रिप्टोकरेंसी
क्रिप्टोकरेंसी एक ऐसी मुद्रा है। जो कंप्यूटर एल्गोरिथ्म पर बनी होती है। यह एक स्वतंत्र मुद्रा है, जिसका कोई मालिक नहीं होता। यह करेंसी किसी भी एक अथॉरिटी के काबू में भी नहीं होती। अमूमन रुपया, डॉलर, यूरो या अन्य मुद्राओं की तरह इस मुद्रा का संचालन किसी राज्य, देश, संस्था या सरकार द्वारा नहीं किया जाता। यह एक डिजिटल करेंसी होती है, जिसके लिए क्रिप्टोग्राफी का प्रयोग किया जाता है। आमतौर पर इसका प्रयोग किसी सामान की खरीदी या कोई सर्विस खरीदने के लिए किया जाता है।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned