scriptinvestors invest, how? no permanent charge | निवेशकों निवेश करें भी तो कैसे? स्थाई प्रभारी तक नहीं | Patrika News

निवेशकों निवेश करें भी तो कैसे? स्थाई प्रभारी तक नहीं

जबलपुर के बरगी हिल्स आइटी पार्क में इंडस्ट्री की स्थापना की रफ्तार सुस्त

जबलपुर

Published: November 15, 2021 08:41:00 pm

जबलपुर। बरगी हिल्स आइटी पार्क, जबलपुर में निवेशकों की समस्याएं बढ़ती जा रही हैं। आए दिन इसकी शिकायत मध्यप्रदेश स्टेट इलेक्ट्रॉनिक्स डेवलपमेंट कारपोरेशन (एमपीएसइडीसी) तक पहुंच रही हैं। लेकिन समाधान जल्दी नहीं होता। सबसे बड़ी बात यहां पर एक स्थाई अधिकारी तक की नियुक्ति नहीं की जा रही है। एक प्रोजेक्ट मैनेजर जरूर हैं लेकिन वे भोपाल के साथ जबलपुर का प्रभार देख रहे हैं। ऐसे में कामकाज प्रभावित होता है। बरगी हिल्स आइटी पार्क में करीब 110 भूखंड हैं। लेकिन आज की स्थिति में एक भी भूखंड खाली नहीं है। सभी का आवंटन शहर, प्रदेश एवं देशभर से आए निवेशकों को हो चुका है। लेकिन वर्तमान में नई इंडस्ट्री शुरू होने की गति मंथर हो गई है। बताया जाता है कि आखिरी इंडस्ट्री नवंबर 2020 में चालू हुई थी। ज्यादातर स्थापनाधीन हैं। लेकिन जैसे ही कोई समस्या निवेशकों के सामने आती है तो स्थाई अधिकारी नहीं होने से उसके निराकरण के लिए उन्हें भटकना पड़ता है।

Bargi Hills IT Park
Bargi Hills IT Park

जबलपुर और भोपाल का प्रभार
शहर के आइटी पार्क आने वाले समय में रोजगार का बड़ा जनक बन सकता है। लेकिन इसके विकास को लेकर उतना ध्यान नहीं दिया जा रहा है। पूर्व में प्रोजेक्ट इंचार्ज के तौर पर पीके दीक्षित को तैनात थे। वे पूरे समय यहां रहते थे। लेकिन उन्हें उनके मूल विभाग में भेज दिया गया है। अभी प्रोजेक्ट मैनेजर के रूप में अजय मलिक को यहां का चार्ज दिया गया है। वे सप्ताह में कुछ दिन ही जबलपुर में रह पाते हैं। ऐसे में यहां की देखरेख सही तरीके से नहीं हो पाती। आइटी पार्क में वर्तमान में फेज-2 की जमीन को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। करीब दस प्लॉट की भूमि को एक संस्थान ने अपनी होने का दावा किया है। ऐसे में जिन निवेशकों ने उन्हें लिया है वे उन पर कोई भी निर्माण कार्य नहीं करवा पा रहे हैं। वे हतोत्साहित होने लगे हैं। ऐसे में अब पुन: पूरे आइटी पार्क का सीमांकन करवाया जाएगा। लेकिन तब तक कोई काम नहीं हो सकेगा। इसी प्रकार निवेशकों ने सड़क की गुणवत्ता को लेकर भी सवाल खड़े किए थे।

नक्शा पास कराना तक कठिन
आइटी पार्क के निवेशकों के संगठन के संरक्षक डीआर जेसवानी का कहना है कि इस क्षेत्र में अभी कई तरह की समस्याएं हैं। उनका निराकरण नहीं हो पा रहा है। नगर निगम से नक्शा पास कराना हो तो उसके लिए बड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। सड़कें खराब बन रही हैं, ठेकेदार पर कोई गंभीर कार्रवाई नहीं होती है। ऐसे में निवेशक भी असहज महसूस करते हैं। यदि ऐसी ही स्थिति रही तो जिस गति से यहां का विकास होना चाहिए वह नहीं हो सकेगा।


जबलपुर का आइटी पार्क विकास के मामले में प्रदेश में आगे हैं। सभी प्लॉट आवंटित हो चुके हैं। इसी तरह निवेशकों की समस्याओं का समाधान भी किया जाता है, जहां तक स्थायी अधिकारी की नियुक्ति की बात है तो इसका प्रयास किया जा रहा है।
अंजू भदौरिया , सीजीएम एमपीएसआइडीसी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकातत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal LoanPriyanka Chopra Surrogacy baby: तस्लीमा ने वेश्यावृत्ति, बुरका से की सरोगेसी की तुलनाराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 23 January 2022: सिंह राशि वालों के मन में प्रसन्नता रहेगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के विजेताओं से पीएम मोदी ने किया संवाद, 'वोकल फॉर लोकल' के लिए मांगी बच्चों की मददब्रेंडन टेलर का खुलासा, इंडियन बिजनेसमैन ने किया ब्लैकमेल; लेनी पड़ी ड्रग्ससंसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितकर्नाटक में कोविड के 50 हजार नए मामले आने के बाद भी सरकार ने हटाया वीकेंड कर्फ्यू, जानिए क्या बोले सीएमRepublic Day 2022 parade guidelines: बिना टीकाकरण और 15 साल से छोटे बच्चों को परेड में नहीं मिलेगी इजाजतइलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करना अब नहीं पड़ेगा महंगा, IIT ने तैयार की नई तकनीक, लागू होने पर EV भी हो सकते हैं सस्तेहरियाणा में अभी नहीं खुलेंगे स्कूल, जानिए शिक्षा मंत्री ने क्या कहाMPPSC Recruitment : चिकित्सा के क्षेत्र में कई पदों पर निकलीं भर्तियां, ऐसे करें आवेदन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.