एक बिल्डिंग में 15 बड़ी कंपनियां, ढाई हजार जॉब

निवेश एवं रोजगार का नया डेस्टीनेशन बना बरगी हिल्स आईटी पार्क, दो इकाइयों में उत्पादन शुरू, आसपास कारोबारी एरिया बढ़ा, आवासीय और कमर्शियल गतिविधि तेज

 

By: gyani rajak

Published: 17 Nov 2019, 11:37 AM IST

जबलपुर@ ज्ञानी रजक. रोजगार और निवेश का बरगी हिल्स आइटी पार्क नया डेस्टीनेशन बन रहा है। जैसे-जैसे यहां पर आईटी कंपनियां आमद दे रही हैं वैसे ही आसपास के क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। पार्क में अब तक दो इकाइयों में उत्पादन प्रारंभ हो गया है। 20 ऐसी हैं जिनमें निर्माण संबंधी काम शुरू हो चुका है। इसी क्षेत्र में सेटेलाइट सिटी का प्रस्ताव भी तैयार किया गया है। ऐसे में पार्क से लगे क्षेत्रों में आवासीय इकाइयों की संख्या बढ़ रही है। होटल्स का निर्माण भी तेज हो गया है।

60 एकड़ क्षेत्रफल में बने आईटी पार्क में अब स्थितियां तेजी से बदल रही हैं। पहाड़ी क्षेत्र जैसे ही समतल हुआ, वैसे ही निवेशकों ने अपनी इकाइयों का निर्माण कार्य तेज कर दिया है। जिन्होंने सिर्फ नाम के लिए भूमि आवंटित कराई थी, उन्हें नोटिस देने का काम भी मध्यप्रदेश राज्य इलेक्ट्रॉनिक डेवलपमेंट कारपोरेशन (एमपीएसईडीसी) तेज कर दिया है। ऐसे में अब निवेशक भी सतर्क हो गए हैं। एक बड़ा परिवर्तन यह आया है कि आइटी पार्क एवं मैन्युफैक्चरिंग क्लस्टर में डेवलपमेंट जिस गति के साथ तेज हुआ है उसे देखकर आम लोगों के साथ बिल्डर्स एवं कारोबारियों ने अपनी इकाइयां स्थापित करनी शुरू कर दी हैं। जो रुके प्रोजेक्ट थे उन्हें भी गति दी जा रही है।

 

यह है स्थिति

- 63 एकड़ क्षेत्रफल में बना है आइटी पार्क एवं इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग क्लस्टर।

- 85 निवेशकों को आइटी पार्क में इकाइयों के लिए भूमि का हो चुका है आवंटन।
- 02 इकाइयों में शुरू हो चुका है उत्पादन। 20 ने शुरू किया स्थापना संबंधी काम।

- 01 लाख वर्गफीट में बनी है टेक्नोपार्क बिल्डिंग। 15 कंपनियां कर रही हैं कारोबार।
- 30 करोड़ का हुआ है कंपनियों का निवेश, ढाई हजार युवाओं को रोजगार।

दो कंपनियों में शुरू हुआ उत्पादन

आईटी पार्क में अभी की स्थिति में दो कंपनियों में उत्पादन शुरू हो गया है। यहां मुख्य समस्या समतलीकरण की रही है। क्योंकि ऊंचे टीले और बड़ी चट्टानें यहां पर थीं। निवेशक चाहकर भी यूनिट स्थापित नहीं कर रहे थे। लेकिन अब नजारा दूसरा है। लगभग पूरी जमीन समतल कर दी गई है। इसलिए अब निर्माण का काम तेज हुआ है।

किराए के घरों की पूछपरख
टेक्नोपार्क में पेटीएम, आइडिया सहित आइटी से जुड़ी करीब देश एवं शहर की 15 कंपनियां अपना कारोबार कर रही हैं। इसमें बीपीओ से लेकर साफ्टवेयर तैयार करने वाली कंपनियां हैं। इनमें अभी ढाई हजार से ज्यादा युवक एवं युवतियां कार्य कर रही हैं। इसलिए यह लोग आसपास के इलाकों में रहते हैं। इसलिए किराए के घरों की पूछपरख बढ़ गई है। यही नहीं आसपास छोटे एवं बड़े होटल का काम भी तेज हुआ है। जो जगह खाली थी, वहां निर्माण तेज हो गया है ।

it park

सिंचाई विभाग की जमीन का बदलेगा नक्शा

जिले में मध्यप्रदेश शासन ने सेटेलाइट सिटी बनाने की घोषणा की है। इसके लिए जमीन की तलाश प्रशासन कर रहा है। आईटी पार्क के पास सिंचाई विभाग की जर्जर क्वार्टर हैं। यहां पर सेटेलाइट सिटी का एक बड़े हिस्से की स्थापना हो सकती है। वित्तमंत्री तरुण भनोत ने भी यहां पर 100 एकड़ जगह पर इसका प्रस्ताव तैयार करने के लिए कहा है। इसका सीधा फायदा भी आईटी पार्क और आसपास के इलाके को होगा। तिलवारा, सगड़ा, बाजनामठ, लम्हेटा आदि क्षेत्रों में व्यवसायिक गतिविधियां बढेंंगी। सेटेलाइट सिटी में टाउनशिप के अलावा कमर्शियल गतिविधियां होती हैं।

आईटी पार्क में दो इकाइयों में उत्पादन शुरू हो गया है। 20 ने काम शुरू किया है। इन कंपनियों की स्थापना से निवेश एवं रोजगार में वृद्धि होगी। साथ ही पार्क के साथ आसपास के क्षेत्र को लाभ भी मिल सकता है।
पीके दीक्षित, प्रोजेक्ट इंचार्ज, आइटी पाक

it park jabalpur paytm, idea,multi company, job,
Show More
gyani rajak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned