यहां तो किसान रजिस्टे्रशन घोटाला हो गया!

जबलपुर जिला प्रशासन बना रहा है जांच कमेटी

जबलपुर। धान खरीदी के लिए जबलपुर जिले के किसानों के रजिस्टे्रशन में गड़बड़ी की जांच के लिए जल्द ही प्रशासन कमेटी बनाएगा। कमेटी की जांच के दायरे में जिले की सभी तहसीलें आ सकती हैं। यह कमेटी सभी खरीदी केंद्रों से दस्तावेज जुटाकर इस बात का पता लगाएगी कि जितने रजिस्टे्रशन हुए उतनी संख्या में किसान खरीदी केंद्रों तक क्यों नहीं पहुंचे। यह भी पता लगाया जाएगा कि क्या किसानों के रजिस्टे्रशन पर बिचौलिया या व्यापारियों ने नया और पुराना धान का विक्रय किया है।

जिले में 38 से 40 हजार के बीच किसानों ने धान की खरीदी के लिए रजिस्टे्रशन कराए हैं। इसके मुकाबले कम किसान ही उपार्जन केंद्रों तक पहुंचे हैं। इसमें गड़बड़ी की आशंका होने की वजह से प्रभारी मंत्री प्रियव्रत सिंह ने जांच कमेटी के गठन का निर्देश दिया था। माना जा रहा है कि धान खरीदी की प्रक्रिया पूरी होने पर जांच दल कार्रवाई शुरू करेगा।

प्रशासन को कुछ शिकायतें मिली हैं कि रजिस्टे्रशन में फर्जीवाड़ा किया गया है। सूत्रों ने बताया कि बिचौलिये और कुछ व्यापारी ऐसे हैं जो इस बात की तस्दीक करते रहते हैं कि किस किसान के पास जितनी उपज उसने दर्ज कराई है, उसके पास उतनी नहीं है। ऐसे में वह अपनी पुरानी धान तक बेच देता है। इसी प्रकार दूसरे किसानों से सस्ती दरों में इसका क्रय कर खरीदी केंद्रों में लाकर उसे शासन के समर्थन मूल्य पर बेच देता है। जिला आपूर्ति नियंत्रक एमएनएच खान ने बताया कि जितनी संख्या में खरीदी केंद्रों पर रजिस्टे्रशन हुए हैं, उतने किसान नहीं आए हैं। जांच में पता लगाया जाएगा कि ऐसा क्यों हुआ। कहीं फर्जी रजिस्टे्रशन तो नहीं हुए। इसी तरह व्यापारियों की संलिप्तता का पता भी लगाएंगे। इस मामले में किसान संगठनों और राजनीतिक दलों ने भी जांच की मांग की है। मुख्य विपक्षी भाजपा का आरोप है कि किसानों के साथ छलावा किया जा रहा है। धानखरीदी समय पर नहीं हो रही है। खाद के लिए कतार लगानी पड़ रही है।

shyam bihari Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned