कोरोना संक्रमण को लेकर प्रशासन हुआ सख्त, कलेक्टर ने सुनाया ये फरमान

- जिले में दिन के वक्त लॉकडाउन में शिथिलता पर रात में सख्ती

By: Ajay Chaturvedi

Published: 18 Jun 2020, 04:24 PM IST

जबलपुर. जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में रहे साथ ही व्यापारिक गतिविधियां भी चलती रहें, इसके लिए दिन में कोरोना प्रोटोकॉल के तहत पूरी छूट मिली है। लेकिन रात में पूरी सख्ती बरती जा रही है। किसी को भी रात में बिना वाजिब कारण के घर से बाहर निकलने की मनाही है। फिर भी कुछ लोगों द्वारा इसका उल्लंघन करने की सूचना मिल रही थी। इस पर जिले के कलेक्टर ने कड़ा रुख अख्तियार किया है।

कलेक्टर भरत यादव ने कहा है कि अनलॉक-1 के तहत जिले में दिन में छूट दी गई है। लॉकडाउन काफी हद तक शिथिल कर दिया गया है। लेकिन रात 9 बजे के बाद लोगों को घर पर ही रहना होगा। इसका पालन नहीं करने वालों को अब संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर भेजा जाएगा।
कलेक्टर ने बुधवार की रात निर्देश जारी कर कहा कि लोग रात में अपने घरों रहें। बताया कि पूल सैंपलिंग के दौरान कुछ लोगों को इसी तरह घर की जगह संस्थागत यानी सरकारी अस्पताल में क्वारंटाइन किया गया है।

कलेक्टर ने पूर्व में जारी आदेश का हवाला देते हुए कहा है कि रात 9 बजे सभी बाजार, दुकान बंद हो जाना है। बावजूद इसके बहुतेरे लोग सड़कों पर बिना काम के घूमते नजर आ रहे हैं। ऐसे लोगों की जांच मौके पर की जाएगी और उन्हें संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर्स में 14 दिनों के लिए भेजा जाएगा। उन्हें 14 दिन के पहले क्वारंटीन सेंटर से छोड़ा नहीं जाएगा।

उन्होंने कहा कि रात 9 बजे के बाद सिर्फ अति आवश्यक सेवा वाले वाहनों, राजस्व, पुलिस, होमगार्ड या सरकारी कार्यालयों के अनुमति वाले कर्मचारी, सामाजिक संगठन के अधिकृत स्वयंसेवक, प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लोग ही आवाजाही कर सकेंगे। इनके अलावा किसी भी सामान्य व्यक्ति को घर से बाहर नहीं निकलना है।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned