script#jabalpur, indian army,soldiers,village Khudawal, | इस गांव का हर युवा बनना चाहता है सैनिक | Patrika News

इस गांव का हर युवा बनना चाहता है सैनिक

जिले में एक ऐसा गांव भी है, जहां का युवा भारत माता की सेवा करने के लिए हरदम तैयार रहता है। इसी जुनून का परिणाम है कि 35 से ज्यादा लोग सेना में रहकर देश की रक्षा में तैनात हैं। इनमें जो रिटायर हो चुके हैं,वे नए युवाओं को सेना में जाने की प्रेरणा दे रहे हैं। हम बात कर रहे हैं सिहोरा तहसील के ग्राम खुड़ावल की। न केवल यह गांव बल्कि आसपास के 20 गांव के लडक़े और लड़कियां यहां आकर सेना और पुलिस में भर्ती होने के लिए अभ्यास करते हैं।

जबलपुर

Published: January 15, 2022 11:57:57 am

जबलपुर @ज्ञानी रजक. पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान अश्विनी काछी भी इसी गांव में पले-बढ़े थे। सैनिक रामेश्वर पटेल भी भारत माता की रक्षा के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी थी। नक्सलियों के हमले में शहीद हुए राजेंद्र उपाध्याय पुलिस में थे। कई आर्मीमैन सेवानिवृत्ति के बाद आसपास के क्षेत्र के युवाओं को सेना में भर्ती होने के लिए प्रेरित करते हैं। वे अपनी सेवाकाल के अनुभव युवाओं से साझा कर उनका हौसला भी बढ़ाते हैं।
army trial
Every youth here is ready to serve the country
यहां खुड़ावल सहित आसपास के 20 गांव ऐसे हैं, जहां बड़ी संख्या में सैनिक और उनके परिवार निवासरत हैं। कई परिवारों की एक से दो पीढिय़ां सेना में रही हैं। यहां के युवा पूरी ताकत सेना, सीआरपीएफ, बीएसएफ, राज्य पुलिस में शामिल होने के लिए झोंकते हैं। यहां कुछ ऐसे परिवार भी हैं, जिनका एक ही पुत्र है, वह भी सेना में है। उनके परिवार को उन पर फख्र होता है। गांव के लोग भी सैनिक परिवारों को पूरा सम्मान देते हैं।
CRPF soldier Ashwini Kachhi

सुविधाएं नहीं, स्टेडियम भी भूला प्रशासन

खुड़ावल गांव में युवाओं के अभ्यास के लिए कोई विशेष इंतजाम नहीं हैं। एक सरकारी जगह को मैदान का स्वरूप दिया गया है। यहां पर खुड़ावल सहित आसपास के 20 गांवों के युवा सेना में भर्ती के लिए अभ्यास करते हैं। शहीद अश्विनी काछी की अंत्येष्टि में शामिल होने आए तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ ने यहां स्टेडियम बनाने की घोषणा की थी, लेकिन सरकार बदलते ही प्रशासन ने भी इसे भुला दिया। अश्विनी काछी की एक प्रतिमा गांव में स्थापित की गई है।

टीम कराती है युवाओं की तैयारी
गांव के खडग़ सिंह पटेल ने बताया कि युवाओं को सेना के लिहाज से तैयार करने के लिए गांव की एक टीम बनाई गई है। वे उसमें मोटिवेटर का काम करते हैं। पीटीआई अशोक राय, सेवानिवृत्त सैनिक अनंतराम काछी, शिक्षक जगदेव प्रसाद पटेल, कंछेदी राय और रवि यादव इन युवाओं का मार्गदर्शन करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.