POLICE SP के सामने हो गया बलवा, TI को बंदूक चलाना नहीं आया, न आंसू गैस का गोला दाग पाए- देखें वीडियो

एसपी ने जमकर फटकारा, दंगाइयों को कंट्रोल करने में पुलिस हुई फेल, अधिकारी सिर झुकाए खड़े रहे

 

By: Lalit kostha

Updated: 05 Sep 2019, 11:39 AM IST

जबलपुर/ बलवा होने पर प्रभावी कार्रवाई और दंगाइयों पर अंकुश लगाने पुलिस की कुशलता जांचने बुधवार को मॉक ड्रिल हुई। अराजक भीड़ को तीतर-बितर करने के लिए प्रयोग की जाने वाले टियर(आंसू) गैस छोडऩे की बारी जैसी ही आयी थाना प्रभारियों की योग्यता सामने आ गई। एक टीआइ तो टीयर गन को संभाल ही नहीं पाए। उन्हें फटकार खानी पड़ी। अस्त्र-शस्त्र के रखरखाव में भी कमी उजागर हुई। ज्यादातर पुलिस कर्मियों का तकनीकी ज्ञान और प्रदर्शन फिसड्डी रहा।

टियर गैस से गोला दाग नहीं पाए टीआइ, तकनीक में ज्यादातर कर्मी फिसड्डी

टीआइ से लेकर आरक्षकों के प्रदर्शन को देखकर एसपी भी बलवा की स्थिति में सुरक्षा और शांति व्यवस्थ बनाए रखने को लेकर चिंता जताई। उन्होंने सभी को अस्त्र-शस्त्र के रखरखाव, उसे संभालने और बलवा की स्थिति में भूमिका लेकर जरुरी निर्देश दिए। तकनीकी आम्र्स स्टाफ ने वज्र वाहन, टियर गैस, वाटर कैनेन, इस्टन ग्रेनेड सहित के प्रयोग के तरीके बताएं।

 

कभी हाथ ही नए लगाए थे गन, ग्रेनेड को-
ड्रिल का निरीक्षण कर रहे एसपी ने कहा कि कहीं बलवा हो जाएं और भेज दिया जाएं तो इसमें कई लोग टियर गैस ही नहीं फेंक सकेंगे। लचर प्रदर्शन को देखने के बाद निर्देश दिए बलवा होने पर इस बात का ध्यान रखें कि जैसी योग्यता और दक्षता हो, उसके अनुसार ही ड्यूटी पर तैनात किया जाएं। मोटे और दौडऩे में ढीले-ढाले पुलिस कर्मियों को बलवा की जगह पर न भेजे। बलवा, भीड़ द्वारा पथराव में कोई घायल न हो। यदि कोई पुलिस अधिकारी और कर्मी घायल होते है तो वह उसकी लापरवाही मानी जाएगी।

कमर के नीचे रखें बौछार, ऊपर न घुमाएं डंडा-
ड्रिल के दौरान पुलिस का एक दल ही दंगाई बना। आंसू गैस, पानी की बौछार करके उन्हें तितर-बितर करने की रिहर्सल हुई। रिहर्सल में भी नियंत्रण और शांति व्यवस्था बनाने के प्रयास में कार्रवाई ढीली नजर आयी। खामियां देखने के बाद एसपी ने पानी की बौछार करने वाले वाटर कैनेन और आवाज करने वाले इस्टन ग्रेनेड के उपयोग के तरीके पर भी टिप्स दिए। पानी की बौछार और डंडे का उपयोग हमेशा कमर के नीचे पैरों पर करने के लिए कहा। ताकि किसी को सिर, छाती में कोई गंभीर चोट न आएं।

police_001_1.jpg

बदलना पड़ा गन-
बलवा ड्रिल के दौरान टियर गन से जब गोला फेंका गया तो वह निकला ही नहीं। बदलकर दूसरी गन देना पड़ा। ज्यादातर कर्मी निर्धारित जगह को टारगेट नहीं कर सकें। ड्रिल के दौरान कुछ कर्मी दंगाईयों से बचने बीच से लौटने लगे। इसे देखते ही तत्काल निर्देश दिए गए कि पुलिस यदि आगे बढ़ी है तो बिल्कुल न पीछे हो। यदि कोई कर्मी दंगाई से घिर गया तो बाकी उसे कवर करें।
कानून व्यवस्था स्थिति के दौरान, बाडीगार्ड हैल्मेट और जाली जरुर पहनने कहा गया। इस दौरान मदनमहल थाने में बलवा किट नहीं होने पर टीआइ को फटकार लगाई गई। सभी थानों में किट की उपलब्धता और उसे साफ-सुथरा रखने के निर्देश दिए।

police_003.jpg
Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned