सालाना 25-30 सीए तैयार कर रहा जबलपुर

सीए दिवस: कम पड़ते हैं चार्टर्ड अकाउंटेंट

By: mukesh gour

Published: 01 Jul 2019, 09:09 AM IST

जबलपुर . जीएसटी हो या फिर इनकम टैक्स की रिटर्न, उसमें कोई भी कमी व्यक्ति और संस्थाएं नहीं रखना चाहती। इसके लिए वे चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए) से लेकर टैक्स एडवोकेट की सहायता लेते हैं। जब से जीएसटी लागू हुई तो तब से तो इनकी अहमियत बढ़ गई है। इसलिए इस क्षेत्र में अध्ययन करने वाले छात्र एवं छात्राओं में भी उत्साह बढ़ा है। वह इस प्रोफेशन के जरिए रोजगार तलाश रहे हैंं। जबलपुर में ही हर साल 25 से 30 नए सीए तैयार हो रहे हैं। जिले में जीएसटी में रजिस्टर्ड करीब 24 हजार डीलर हैं। इसमें सेन्ट्रल जीएसटी के पास लगभग आठ हजार और राज्य जीएसटी के पास करीब 16 हजार डीलर्स हैं। दूसरी तरफ सीए की बात की जाए तो इनकी संख्या लगभग 400 है। ऐसे में एक सीए के पास 60 से 70 डीलर्स का भार है। इसलिए रोजगार के लिए यह उभरता क्षेत्र है। क्योंकि जीएसटी की हर माह दो रिटर्न जमा करनी पड़ती है। अब सालाना रिटर्न भी भरती है। इन कामों को व्यापारी के लिए करना उतना आसान नहीं होता। इसलिए करीब 90 फीसदी कारोबारी इसमें सीए की सहायता लेते हैं।


कम्पनी नियमों में कड़ाई
चार्टर्ड अकाउंटेंट जबलपुर ब्रांच के अध्यक्ष आशीष अग्रवाल बताने हैं कि सीए की भूमिका इस नाते भी बढ़ी है कि सरकार ने 2013 के कम्पनी नियमों का कड़ाई से पालन करना जरुरी कर दिया है। सरकार कई तरह की जानकारियां समय-समय पर मांगती है। इन कामों को करना किसी कारोबारी के लिए आसान नहीं होता। सचिव मधु अग्रवाल ने बताया कि इस साल से आयकर की विवरणी का भी नया फॉर्म आया है। उसमें कई बिन्दू शामिल किए हैं। इसमें आय-व्यय के साथ अब लेखा-जोखा का विवरण दिया जाना जरुरी होगा। ऐसे में काम आसान नहीं होता। सीए कमल बलेचा ने बताया कि चार्टर्ड अकाउंटेंट रोजगार के लिए उभरता क्षेत्र है।


आज मनाया जाएगा 70वां स्थापना दिवस
द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट सोमवार को अपना 70वां स्थापना दिवस मना रहा है। जबलपुर ब्रांच में सप्ताहभर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। कार्यक्रम के संयोजक आशुतोष ददरया ने बताया कि सुबह 9 बजे राइट टाउन स्थित कार्यालय में ब्रांच अध्यक्ष झंडारोहण करेंगे। इसके बाद सप्ताहभर श्रंृखलाबद्ध कार्यक्रम होंगे। उन्होंने बताया कि सोमवार को रक्तदान शिविर, वरिष्ट सीए का सम्मान, सीए परिवारों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति व हेल्थ चेकअप, 2 जुलाई को साइकिल रैली, 3 जुलाई को पौधरोपण एवं अंगदान व नेत्रदान पर जागरुकता कार्यक्रम। चार जुलाई को जीएसटी पर साक्षरता कार्यक्रम टैक्स असोशिएशन के साथ। 5 जुलाई को गरीब बच्चों को रेनकोट एवं छातों का वितरण छह जुलाई को स्वच्छ भारत अभियान के तहत सफ ाई कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

mukesh gour
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned