जयपुर की फर्म ने ठेकेदार को लगाई 12 लाख की चपत

जयपुर की फर्म ने ठेकेदार को लगाई 12 लाख की चपत
12 लाख की चपत

Santosh Kumar Singh | Publish: May, 22 2019 01:09:04 AM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

मुख्यमंत्री नल-जल योजना के अंतर्गत कुंडम विकास खंड में पाइप लाइन बिछाने के लिए दिया था ऑर्डर, पैसे जमा कराने के बाद भी नहीं दी सप्लाई

जबलपुर. जयपुर की फर्म ने विजय नगर निवासी सरकारी ठेकेदार को पाइप लाइन की सप्लाई का ऑर्डर लेकर 12 लाख की चपत लगा दी। फर्म ने एडवांस में पैसे जमा करा लिए, लेकिन आठ महीने बाद भी पाइप सप्लाई नहीं की। ठेकेदार ने मामले में सोमवार को फर्म और उसके प्रोपराइटर के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया।
नल-जल योजना के अंतर्गत बिछनी थी पाइपलाइन
पुलिस के अनुसार न्यू कंचनपुर निवासी राजकुमार विश्वकर्मा शासकीय ठेकेदार हैं। उन्होंने कुंडम विकास खंड में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग से मुख्यमंत्री नल-जल योजना का टेंडर लिया है। इसमें विभिन्न साइज की पाइप लाइन बिछायी जानी है। इसके लिए उन्होंने इंडियामार्ट नाम की वेबसाइट पर जानकारी सर्च की। इस दौरान उन्हें जयपुर की कम्पनी कृष्णा एग्रो ट्रेडर्स की जानकारी मिली।
अक्टूबर व नवम्बर में जमा कराया पैसा
वेबसाइट के माध्यम से इस फर्म के प्रोपराइटर गिरिराज शर्मा का नम्बर लिया और 25 अक्टूबर 2018 को बात की। गिरिराज ने 1579 मीटर पाइप का 760 रुपए प्रति मीटर की दर से कुल 12 लाख 44 रुपए में सप्लाई ऑर्डर की बात तय हुई। गिरिराज ने छह लाख रुपए जयपुर स्थित फर्म के निजी बैंक खाते में जमा कराया। इसके बाद 26 नवम्बर 2018 को मॉल तैयार होने की सूचना देते हुए छह लाख 44 रुपए और जमा करा लिए। राजकुमार ने ये पैसे विजय नगर स्थित बैंक से आरटीजीएस के माध्यम से ट्रांसफर किए थे। इसके बावजूद अब तक फर्म ने न पाइप की सप्लाई की और न पैसे वापस किए।
जयपुर जाएगी पुलिस टीम
टीआइ विजय नगर यूएस सोनी ने बताया कि प्रकरण में फर्म और उसके प्रोपराइटर गिरिराज शर्मा के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया गया है।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned