जन्माष्टमी में जरूर लगाएं इन मिष्ठान्नों का भोग, श्रीकृष्ण को हैं बहुत प्रिय

जन्माष्टमी में जरूर लगाएं इन मिष्ठान्नों का भोग, श्रीकृष्ण को हैं बहुत प्रिय

deepak deewan | Publish: Sep, 03 2018 03:52:10 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

मिष्ठान्नों का भोग

जबलपुर। भगवान विष्णु ने संसार में धर्म की स्थापना व अधर्म के नाश हेतु अनेकों अवतार लिए हैं। इन्हीं में से एक अवतार द्वापर युग में भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण के रूप में लिया। श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को रात्रि में हुआ था। अत: इस पावन तिथि को प्रत्येक वर्ष भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के रुप में आस्था के साथ मनाया जाता है। भगवान श्रीकृष्ण का संपूर्ण जीवन प्रेरणा स्वरूप रहा है, जो जीवन के अनेकों सूत्रों को बताता है और यही अमूल्य सूत्र जीवन को दिशा और मुक्ति का मार्ग दिखलाते हैं।


जन्माष्टमी की धूम- श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव पावन अवसर पर मंदिरों को फूलों, बिजली की झालरों तथा रंगबिरंगी झंडियों से आकर्षक ढंग से सजाया गया है। भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव के अवसर पर जगह-जगह भजन संध्या आयोजित की गई है तथा भगवान की लीलाओं से संबधित विभिन्न प्रकार की झांकियों का भी प्रदर्शन किया जा रहा है।

कृष्णजी का इनका भोग जरूर लगाना चाहिए
- श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की रात्रि को मोहरात्रि भी कहा गया है। इस रात में योगेश्वर श्रीकृष्ण का ध्यान, नाम अथवा मंत्र जपते हुए जगने से संसार की मोह-माया से मुक्ति प्राप्त होती है। जन्माष्टमी का व्रत करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। भगवान कृष्ण को दूध और मक्खन अति प्रिय था। अत: जन्माष्टमी के दिन खीर और पेड़े, माखन, मिस्री जैसे मीठे व्यंजन बनाए और खाए जाते हैं। जन्माष्टमी के दिन कृष्णजी का इनका भोग जरूर लगाना चाहिए।


जन्माष्टमी महत्त्व- गीता की अवधारणा द्वारा भगवान श्रीकृष्ण गीता में कहते हैं कि जब-जब धर्म का नाश होता है, तब-तब मैं स्वयं इस पृथ्वी पर अवतार लेता हूं और अधर्म का नाश करके धर्म की स्थापना करता हूं। अत: जब असुर एवं राक्षसी प्रवृतियों द्वारा पाप का आतंक व्याप्त होता है, तब-तब भगवान विष्णु किसी न किसी रूप में अवतरित होकर इन पापों का शमन करते हैं। भगवान विष्णु के समस्त अवतारों में से एक महत्त्वपूर्ण अवतार श्रीकृष्ण का रहा। भगवान स्वयं, जिस दिन पृथ्वी पर अवतरित हुए थे, उस पवित्र तिथि को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं।

Ad Block is Banned