Janta Curfew : कोरोना से बचने के लिए जनता कर्फ्यू को तैयार जबलपुर, कोरोना को हराकर ही लेंगे दम

Janta Curfew : कोरोना से बचने के लिए जनता कर्फ्यू को तैयार जबलपुर, कोरोना को हराकर ही लेंगे दम

By: abhishek dixit

Published: 22 Mar 2020, 09:09 AM IST

जबलपुर. कोरोना से जंग लडऩे के लिए शहर भी तैयार है। रविवार को जनता कफ्र्यू है। कोरोना के प्रति लोगों के बीच इस कदर का खौफ है कि हर कोई बस इस बीमारी से बचना चाहता है। इस बीमारी से बचने के लिए वे हर तरह के उपायों को भी करने में पीछे नहीं हैं। इस बीमारी से लडऩे के लिए ही जनता कफ्र्यू लगाया जा रहा है। इसके लिए शहर तैयार है, जिसकी तैयारी के चलते उन्होंने कई तरह से खुद को लॉक डाउन करने की तरकीेबे अपनाई जा रही है। शहर में कई वर्किंग संस्थान बंद कर दिए गए हैं, लेकिन जहां वर्क हैं, वहां के कर्मचारी भी संडे को खुद को लॉक डाउन करेंगे।

सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक जनता कफ्र्यू के रूप में रविवार का दिन चुना गया है। क्योंकि यह दिन छुट्टी वाला होता है, इसलिए बड़ी संख्या में लोग घरों पर ही उपस्थित रहेंगे। वहीं जो संडे को भी कार्यालय जाते हैं, उन्होंने ने भी इस दिन खुद को लॉक डाउन करेंगे। यदि कोरोना वायरस अगर कहीं है तो उसे 36 घंटों तक पनपने का मौका नहीं मिलेगा। यह एक तरह की आइसोलेशन जैसी स्थिति होगी। वायरस को जब पनपने का मौका नहीं मिलेगा या नया शरीर नहीं मिलेगा, तो वह अपने आप खत्म हो जाएगा। यह वैज्ञानिक प्रयोग सभी के लिए सफल साबित होगा। दूसरी तरह जब जब शाम 5 बजे लोग अपनी खिड़कियों और दरवाजों पर खड़े होकर 5 मिनट तक थाली या ताली बजाएंगे तो यह भी वातावरण में फैले कीटाणुओं को खत्म करने में मददगार साबित होगा।

शहर में लगाए जा रहे हैं पोस्टर
रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी की एनएसएस मुक्त ईकाई के कार्यक्रम अधिकारी डॉ. देवांशु गौतम ने बताया कि जनता कफ्र्यू के लिए वॉलेन्टियर्स द्वारा जागरूकता वाले पोस्टर लगाए जा रहे हैं, ताकि लोग घरों में लॉक डाउन होकर कोरोना से लडऩे का काम करें।

मिलने-जुलने की कोई एक्टिविस्ट नहीं
बिंदू पाण्डे कहती हैं कि संडे के लिए घर आने वाले सभी सर्वेंट को मना दिया है। घर के काम खुद करेंगे। किसी से मिलने-जुलने की कोई एक्टिविटी नहीं होगी। शाम के वक्त हर के सदस्य तालियों की गर्जना करेंगे।

ऑफिस का काम नहीं, सिर्फ देशहित
विवेक रंजन श्रीवास्तव का कहना है कि घर में रहकर जनता कफ्र्यू का समर्थन करेंगे। कार्यालय में काम संडे को भी कभी आ जाता है, लेकिन पूरा दिन घर पर ही लॉक डाउन होंगे। वहीं शाम 5 बजे शंख की ध्वनि बजाई जाएगी।

अपने संस्थान को बंद करेंगी
ब्यूटीशियन लता गुप्ता बताती हैं कि संडे के दिन ही ब्यूटी क्लिनिक में सबसे ज्यादा रश होता है। ट्रेनिंग सेंटर भी है, लेकिन संडे को जनता कफ्र्यू के लिए सभी अपांइटमेंट कैंसल कर दी गई है।

सोसायटी में सभी रहेंगे लॉक डाउन
डॉ. कल्पना मिश्रा कहती है कि सोसायटी में जनता कफ्र्यू को लेकर अभी से प्लानिंग की गई है। आमतौर पर सोसायटी में रोजाना गेट टू गेदर होता है, लेकिन जनता कफ्र्यू के कारण सभी लॉक डाउन रखेंगे।

abhishek dixit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned