bhairavashtami: दुश्मन हावी हो रहे हों तो करें ये पूजन, शांत हो जाएंगे शत्रु

१० नवंबर को है भैरवाष्टमी या कालाष्टमी, इस दिन पूजा-उपासना द्वारा सभी शत्रुओं और पापी शक्तियों का नाश होता है

By: deepak deewan

Published: 10 Nov 2017, 02:59 PM IST

जबलपुर। पौराणिक मान्यताओं के आधार स्वरूप मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष अष्टमी के दिन भगवान शिव, भैरव रूप में प्रकट हुए थे अत: इसी उपलक्ष्य में इस तिथि को व्रत व पूजा का विशेष विधान है। भैरवाष्टमी या कालाष्टमी के दिन पूजा-उपासना द्वारा सभी शत्रुओं और पापी शक्तियों का नाश होता है और सभी प्रकार के पाप, ताप एवं कष्ट दूर हो जाते हैं। भैरवाष्टमी या कालाष्टमी इस बार १० नवंबर को है। इस दिन व्रत एवं षोड्षोपचार पूजन करना अत्यंत शुभ एवं फलदायक माना जाता है। इस दिन श्री काल भैरव का दर्शन-पूजन शुभ फल देने वाला होता है। भैरव की पूजा-उपासना मनोवांछित फल देने वाली होती है। इस दिन साधक, भैरव की पूजा-अर्चना करके तंत्र-मंत्र की विद्याओं को पाने में समर्थ होता है। यही सृष्टि की रचना, पालन और संहारक है। इनका आश्रय प्राप्त करके भक्त निर्भय हो जाता है तथा सभी कष्टों से मुक्त रहता है।तंत्र साधना के लिए काल भैरव अष्टमी अति उत्तम मानी जाती है। कहते हैं कि भगवान का ही एक रूप भैरव, साधना करने वाले भक्त के सभी संकटों को दूर करने वाला होता है। यह अत्यंत कठिन साधनाओं में से एक होती है, जिसमें मन की सात्विकता और एकाग्रता का पूरा ख्याल रखना होता है।


ऐसे करें पूजन

भगवान शिव के इस रूप की उपासना षोड्षोपचार पूजन सहित करनी चाहिए। रात्रि समय में जागरण करना चाहिए व इनके मंत्रों का जाप करते रहना चाहिए। भजन-कीर्तन करते हुए भैरव कथा व आरती की जाती है। इनकी प्रसन्नता हेतु इस दिन काले श्वान को भोजन कराना शुभ माना जाता है। मान्यता अनुसार, इस दिन भैरव की पूजा व व्रत करने से समस्त विघ्न समाप्त हो जाते हैं, भूत, पिशाच एवं काल भी दूर रहता है। भैरव उपासना क्रूर ग्रहों के प्रभाव को समाप्त करती है। भैरव देव के राजस, तामस एवं सात्विक तीनों प्रकार के साधना तंत्र ? प्राप्त होते हैं। भैरव साधना स्तंभन, वशीकरण, उच्चाटन और सम्मोहन जैसी तांत्रिक क्रियाओं के दुष्प्रभाव को नष्ट करने के लिए की जाती है। इनकी साधना करने से सभी प्रकार की तांत्रिक क्रियाओं के प्रभाव नष्ट हो जाते हैं।


काशी के संरक्षक
इन्हीं से भय का नाश होता है और इन्हीं में त्रिशक्ति समाहित है। हिंदू देवताओं में भैरव का बहुत ही महत्व है। यह दिशाओं के रक्षक और काशी के संरक्षक कहे जाते हैं। कहते हैं कि भगवान शिव से ही भैरव की उत्पत्ति हुई है। यह कई रूपों में विराजमान हैं और बटुक भैरव व काल भैरव भी यही हैं। इन्हें रुद्र, क्रोध, उन्मत्त, कपाली, भीषण और संहारक भी कहा जाता है। भैरव को भैरवनाथ भी कहा जाता है और नाथ सम्प्रदाय में इनकी पूजा का विशेष महत्व रहा है। भैरव आराधना से शत्रु से मुक्ति, संकट, कोर्ट-कचहरी के मुकदमों में विजय प्राप्त होती है, व्यक्ति में साहस का संचार होता है। इनकी आराधना से ही शनि का प्रकोप शांत होता है। रविवार और मंगलवार के दिन इनकी पूजा बहुत फलदायी है। भैरव साधना और आराधना से पूर्व अनैतिक कृत्य आदि से दूर रहना चाहिए। पवित्र होकर ही सात्विक आराधना की जाती है।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned