scriptKargil Vijay Diwas,weaponsGCF,VFJ, OFK, Indian Army | करगिल की बोफोर्स का स्वदेशीकरण, अब ज्यादा ताकतवर | Patrika News

करगिल की बोफोर्स का स्वदेशीकरण, अब ज्यादा ताकतवर

जीसीएफ ने बढ़ाई 10 किमी ज्यादा मारक क्षमता, सीमा पर तैनाती

जबलपुर

Published: July 27, 2022 12:03:04 pm

जबलपुर@ज्ञानी रजक. देश में प्रत्येक वर्ष 26 जुलाई को करगिल दिवस मनाया जाता है। करगिल युद्ध में पाकिस्तानी घुसपैठियों को मार गिराने में जिन विध्वंसक हथियारों का इस्तेमाल हुआ था, उन पर देश की सेना का भरोसा आज भी कायम है। इन हथियारों और सैन्य वाहनों का उत्पादन शहर की आयुध निर्माणियों में लगातार हो रहा है। इनमें कई ऐसे हैं जिनकी तकनीक समय के हिसाब से बदली है। बोफोर्स जैसी तोप की मारक क्षमता में भारी इजाफा हुआ है। अब उसका स्वदेशीकरण भी हो गया है।

 धनुष तोप जीसीएफ
Weapons, capability and technology are being made in the city's factories even today.

देश की सेना ने कोई भी युद्ध लड़ा हो, उसका जुड़ाव जबलपुर से हमेशा रहा है। 1999 के करगिल युद्ध में यहां बने हथियारों ने रणक्षेत्र में विध्वंस मचाया था। जब दुश्मन ऊंची पहाड़ी से हमला कर रहा था तब स्वीडन से आयातित और गन कैरिज फैक्ट्री (जीसीएफ) में असेंबल बोफोर्स तोप ने उन्हें पीछे खदेड़ा था। इसी बोफोर्स का स्वदेशी वर्जन 155 एमएम 45 कैलीबर धनुष तोप जीसीएफ में ही तैयार किया गया है।

मोर्टार भी काम आए

धनुष वर्तमान समय में सेना के पास सबसे बड़ी तोप में से एक है। यह बोफोर्स की तुलना में 10 किमी ज्यादा दूरी यानी 40 किमी तक गोला दाग सकती है। इस तोप में लगातार नए परिवर्तन किए जाते रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि इस तोप ने सारे पैमानों को पार किया है। इसकी तैनाती भी सीमा पर होने लगी है। जीसीएफ के मोर्टार भी आमने-सामने की लड़ाई में काम आए थे, उसकी तकनीक भी बदलती रही है।

पहाड़ों पर आसानी से चढ़ा शक्तिमान

वीकल फैक्ट्री जबलपुर (वीएफजे) में बने शक्तिमान सैन्य वाहन की खूबियों की सेना कायल रही। ऊंची पहाडि़यों में हथियार और सैनिकों को पहुंचाने में ब़डी मदद की। उस समय यही ट्रक था जो दुर्गम स्थलों तक आसानी से पहुंचता था। इसी प्रकार स्टालियन और एलपीटीए वाहन शुरुआती उत्पादन के चरण में था। अब भी इनका उत्पादन हो रहा है। बस तकनीक में बदलाव हो गया है। अब सेना के रक्षा कवच के लिए यहां पर मॉडिफाइलड माइन प्रोटेक्टिड वीकल (एमएमपीवी) का उत्पादन किया जा रहा है।

Mine Protected Vehicle

पहले बोफोर्स अब धनुष में उपयोग

ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया (ओएफके) में बना 155 एमएम का गोला उस समय दुश्मन के खेमे में विध्वंस मचा रहा था। इसका इस्तेमाल उस समय बोफोर्स तोप में किया जा रहा था। ऊंचे पहाड़ पर बैठा दुश्मन ऊपर से हमला कर रहा था, तब हमारी सेना को बहुत नुकसान हुआ था। जानकारों ने बताया कि जब बोफोर्स से गोला दागा तब वहां खलबली मच गई। यही गोला आज स्वदेशी धनुष तोप में इस्तेमाल होता है। इसी प्रकार हल्के वजन और घातक 30 एमएम बीएमपी-2 गोला की मांग अभी भी सेना से आती है। इसका उत्पाद हो रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

ड‍िप्‍टी सीएम मनीष स‍िसोद‍िया के यहां CBI की रेड के बाद LG का बड़ा आदेश, 12 IAS अफसरों का ट्रांसफरमनीष सिसोदिया के घर समेत 31 जगहों पर रेड, 17 अगस्त को ही दर्ज हुई थी FIR, CBI ने जारी की पूरी डीटेलउपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर CBI की छापेमारी के बाद आम आदमी पार्टी ने किया ऐलान - '2024 में मोदी Vs केजरीवाल'Kerala News: मुस्लिम लीग के महासचिव का विवादित बयान, बोले- 'लड़के-लड़कियों का स्कूल में साथ बैठना खतरनाक'मथुरा से लाइव..ब्रज में जन्मे कृष्ण-कन्हाई, हर घर गूंजी बधाईENG vs SA: दक्षिण अफ्रीका ने लॉर्ड्स पर दर्ज की ऐतिहासिक जीत, इंग्लैंड को पारी और 12 रन से हरायाVIDEO : Tractor-Trailer Accident : जातरूओं से भरे ट्रैक्टर से टकराया ट्रेलर, सात जातरूओं की मौतjanmashtami 2022: खाटूश्यामजी में लगा भक्तों का रैला, दर्शनों के लिए देशभर से पहुंच रहे श्रद्धालु
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.