स्वस्थ रहने के लिए खुद को बनाए रखें पॉजिटिव

बच्चों को सुरक्षित रखने पहले हमें रहना होगा सुरक्षित, तनाव को रखे दूर, शिक्षा और स्वास्थ्य पर हुए विविध वेबीनार, वक्ताओं ने रखी अपनी बात

By: Mayank Kumar Sahu

Published: 11 Jun 2021, 11:48 PM IST

जबलपुर।
कोरोना का संक्रमण भले ही कम हो रहा हो, लेकिन अभी यह पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है। इसे हम हल्के में ना लें बल्कि, अनुकूल होती परिस्थितियों के तहत हम अब पहले से ज्यादा सावधानी बरतें, ताकि दोबारा संक्रमण ना फैले। तीसरी लहर बच्चों पर असर करने की बात चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा की जा रही है। ऐसे में जरूरी है कि बच्चों की सुरक्षा के लिए सबसे पहले हम सुरक्षित रहें। मास्क, सैनिटाइजर, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। प्राणायाम, अनुलोम विलोम, को करना होगा। आने वाले समय में तभी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था सुचारू हो सकेगी। अपने को स्वस्थ रखने के लिए पॉजिटिव एनर्जी को बनाए रखना जरूरी है। यह बात शिक्षाविदो के आयोजित हुए वेबिनोर में अंर्तराष्ट्रीय लेखक एवं प्रेरक अनुराग सोनी ने स्कूलों के प्रिंसिपल के साथ हुए राष्ट्रीय वेबीनार में व्यक्त किए। ईंटेब आईटी एजुकेशन के माध्यम से स्कूलों के प्राचार्य शिक्षक ऑनलाइन जुड़े। सोनी ने शिक्षको को अपने व्यवहार एवं विद्यार्थियों को जीवन जीने की कला सिखायी। एक दूसरों की मदद करने के साथ ही हमेशा खुश रहने की बात बच्चों शिक्षकों से कई कहीं। वेबीनार के माध्यम से लगभग 8000 लोगों ने इसे एक साथ देखा और सुना।
जागरुकता के साथ शिक्षा का हो प्रसार: डॉ. ध्रुव
मध्यांचल सोशियोलॉजिकल सोसाइटी द्वारा राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया। शिक्षाविद एवं समाज शास्त्री डॉ. ध्रुव दीक्षित ने कहा कि महामारी को देखते हुए अब हमें योग के साथ शिक्षण का भी प्रयोग करना होगा। स्कूल कॉलेज बंद है ऑनलाइन पढ़ाई संचालित हो रही है, यह जरूरी तो है लेकिन गांव में इंटरनेट की कनेक्टिविटी उपलब्ध नहीं है । ऐसे में उन क्षेत्रों में रहने वाले बच्चों की शिक्षण व्यवस्था कैसे पूरी होगी यह भी एक बड़ा प्रश्न है। शिक्षा संस्थानों की जिम्मेदारी है कि जागरूकता, मानवता के साथ शिक्षा का प्रसार किया जाए।
स्वस्थ रहने ध्यान योग जरूरी: डॉ.जाटव
स्वस्थ रहने के लिए ध्यान और योग जरूरी है। इस समय स्कूलों अथवा कॉलेजों में बच्चों पर पढ़ाई और परीक्षाओं का सबसे ज्यादा दबाव है। ऐसे में मन को और दिमाग को तंदुरुस्त रखने के लिए ध्यान योग बेहद जरूरी है। नियमित ध्यान योग के माध्यम से हम मस्तिष्क मन को स्वस्थ रखने के साथ ही पुरानी से पुरानी व्याधियों को भी दूर कर सकते हैं । यह बात ध्यान एवं योग प्रबंधन के ऑनलाइन वेबीनार में डॉक्टर देवेंद्र जाटव ने कहीं।

Mayank Kumar Sahu Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned