उफनती नर्मदा की लहरों में तिरंगा लेकर बच्चों साथ कूद गई महिला, कैमरे में हो गया लाइव रिकॉर्ड- देखें वीडियो

उफनती लहरों में महिलाएं और बच्चे हाथों में तिरंगा लेकर कूद गए। कूदने के बाद नर्मदा की लहरों ने उन्हें अपने आवेश में ले लिया

By: Lalit kostha

Published: 14 Aug 2019, 11:11 AM IST

जबलपुर। जोरदार बारिश और बरगी बांध के गेट खुलने के बाद से नर्मदा अपने प्रचंड वेग से बह रही हैं। उफनती लहरें जहां दूर से खूबसूरत दिखाई दे रही हैं, वहीं पास जाने पर जानलेवा खतरनाक हो रही हैं। ऐसी उफनती लहरों में दर्जनों की संख्या में महिलाएं और बच्चे हाथों में तिरंगा लेकर कूद गए। कूदने के बाद नर्मदा की लहरों ने उन्हें अपने आवेश में ले लिया। ये दृश्य जिसने भी देखा देखता ही रह गया। घाट किनारे खड़े लोग इस दृश्य का वीडियो बनाते हुए नजर आ रहे थे। हर तरफ भारत माता की जय, वंदे मातरम और अखंड भारत अखंड देश का नारा गूंजने लगा।

 

नर्मदा की लहरों पर तिरंगा यात्रा आज

चौंकिए नहीं ये कोई खतरनाक सीन नहीं है, बल्कि देशभक्ति को प्रदर्शित करने और एक देश एक समाज, एक मनावता का संदेश देने वाली तिरंगा यात्रा का है। अखंड भारत संकल्प यात्रा के माध्यम से पिछले 11 सालों से नर्मदा के तैराक ग्वारीघाट से तिलवाराघाट तक ऐसी उफनती नदी में तिरंगा लेकर निकलते हैं। जिन्हें देखने दूर दूर से लोग बड़ी संख्या में आते हैं।

 

उफनती नर्मदा की लहरों में तिरंगा लेकर बच्चों साथ कूद गई महिला, कैमरे में हो गया लाइव रिकॉर्ड- देखें वीडियो   नर्मदा की लहरों पर तिरंगा यात्रा आज जबलपुर। जोरदार बारिश और बरगी बांध के गेट खुलने के बाद से नर्मदा अपने प्रचंड वेग से बह रही हैं। उफनती लहरें जहां दूर से खूबसूरत दिखाई दे रही हैं, वहीं पास जाने पर जानलेवा खतरनाक हो रही हैं। ऐसी उफनती लहरों में दर्जनों की संख्या में महिलाएं और बच्चे हाथों में तिरंगा लेकर कूद गए। कूदने के बाद  नर्मदा की लहरों ने उन्हें अपने आवेश में ले लिया। ये दृश्य जिसने भी देखा देखता ही रह गया। घाट किनारे खड़े लोग इस दृश्य का वीडियो बनाते हुए नजर आ रहे थे। हर तरफ भारत माता की जय, वंदे मातरम और अखंड भारत अखंड देश का नारा गूंजने लगा।   चौंकिए नहीं ये कोई खतरनाक सीन नहीं है, बल्कि देशभक्ति को प्रदर्शित करने और एक देश एक समाज, एक मनावता का संदेश देने वाली तिरंगा यात्रा का है। अखंड भारत संकल्प यात्रा के माध्यम से पिछले 11 सालों से नर्मदा के तैराक ग्वारीघाट से तिलवाराघाट तक ऐसी उफनती नदी में तिरंगा लेकर निकलते हैं। जिन्हें देखने दूर दूर से लोग बड़ी संख्या में आते हैं।   यात्रा के संयोजक विवेक यादव के अनुसार इस अखंड भारत संकल्प यात्रा का उद्देश्य लोगों में देशभक्ति का जज्बा पैदा करना तथा प्रकृति प्रधान इस देश की प्रकृति का संरक्षण करने का संदेश देना है। यात्रा में छोटे बच्चों से लेकर महिलाएं, व बुजुर्ग तैराक शामिल हैं। यह देखने में जितनी अच्छी लगती है, उतनी ही खतरनाक तैराकी होती है। नर्मदा अपने प्रचंड वेग से प्रवाहित होती हैं। हालांकि सुरक्षा का ख्याल भी रखा जाता है, लेकिन तैराकों का जोश लहरों को चीरकर अपनी मंजिल पा लेता है। यात्रा का समापन तिलवाराघाट में राष्ट्रगान के साथ होगा, साथ ही प्रतिभागियों को सम्मान पत्र व स्मृति चिंह दिया जाएगा।  150 से ज्यादा तैराक शामिल  जिलहरीघाट से सुबह 8.30 बजे शुरू हुई तिरंगा यात्रा में 150 से अधिक तैराक शामिल हुए। जिलहरीघाट नित्य तैराकी मंडल के विवेक यादव ने बताया कि 14 अगस्त को 11 वें वर्ष अखंड भारत संकल्प यात्रा निकाली गई। तैराक नर्मदा की अथाह जलराशि के बीच एक हाथ में तिरंगा लेकर तैराकी करते हुए जोश के साथ शामिल हुए। यात्रा जिलहरीघाट से ग्वारीघाट, खारीघाट, ललपुर गांव होते हुए यह यात्रा तिलवाराघाट पहुंचकर सम्पन्न हुई। दक्ष तैराकों की निगरानी में तिरंगा यात्रा पूरी होती है।

यात्रा के संयोजक विवेक यादव के अनुसार इस अखंड भारत संकल्प यात्रा का उद्देश्य लोगों में देशभक्ति का जज्बा पैदा करना तथा प्रकृति प्रधान इस देश की प्रकृति का संरक्षण करने का संदेश देना है। यात्रा में छोटे बच्चों से लेकर महिलाएं, व बुजुर्ग तैराक शामिल हैं। यह देखने में जितनी अच्छी लगती है, उतनी ही खतरनाक तैराकी होती है। नर्मदा अपने प्रचंड वेग से प्रवाहित होती हैं। हालांकि सुरक्षा का ख्याल भी रखा जाता है, लेकिन तैराकों का जोश लहरों को चीरकर अपनी मंजिल पा लेता है। यात्रा का समापन तिलवाराघाट में राष्ट्रगान के साथ होगा, साथ ही प्रतिभागियों को सम्मान पत्र व स्मृति चिंह दिया जाएगा।

 

150 से ज्यादा तैराक शामिल
जिलहरीघाट से सुबह 8.30 बजे शुरू हुई तिरंगा यात्रा में 150 से अधिक तैराक शामिल हुए। जिलहरीघाट नित्य तैराकी मंडल के विवेक यादव ने बताया कि 14 अगस्त को 11 वें वर्ष अखंड भारत संकल्प यात्रा निकाली गई। तैराक नर्मदा की अथाह जलराशि के बीच एक हाथ में तिरंगा लेकर तैराकी करते हुए जोश के साथ शामिल हुए। यात्रा जिलहरीघाट से ग्वारीघाट, खारीघाट, ललपुर गांव होते हुए यह यात्रा तिलवाराघाट पहुंचकर सम्पन्न हुई। दक्ष तैराकों की निगरानी में तिरंगा यात्रा पूरी होती है।

उफनती नर्मदा की लहरों में तिरंगा लेकर बच्चों साथ कूद गई महिला, कैमरे में हो गया लाइव रिकॉर्ड- देखें वीडियो   नर्मदा की लहरों पर तिरंगा यात्रा आज जबलपुर। जोरदार बारिश और बरगी बांध के गेट खुलने के बाद से नर्मदा अपने प्रचंड वेग से बह रही हैं। उफनती लहरें जहां दूर से खूबसूरत दिखाई दे रही हैं, वहीं पास जाने पर जानलेवा खतरनाक हो रही हैं। ऐसी उफनती लहरों में दर्जनों की संख्या में महिलाएं और बच्चे हाथों में तिरंगा लेकर कूद गए। कूदने के बाद  नर्मदा की लहरों ने उन्हें अपने आवेश में ले लिया। ये दृश्य जिसने भी देखा देखता ही रह गया। घाट किनारे खड़े लोग इस दृश्य का वीडियो बनाते हुए नजर आ रहे थे। हर तरफ भारत माता की जय, वंदे मातरम और अखंड भारत अखंड देश का नारा गूंजने लगा।   चौंकिए नहीं ये कोई खतरनाक सीन नहीं है, बल्कि देशभक्ति को प्रदर्शित करने और एक देश एक समाज, एक मनावता का संदेश देने वाली तिरंगा यात्रा का है। अखंड भारत संकल्प यात्रा के माध्यम से पिछले 11 सालों से नर्मदा के तैराक ग्वारीघाट से तिलवाराघाट तक ऐसी उफनती नदी में तिरंगा लेकर निकलते हैं। जिन्हें देखने दूर दूर से लोग बड़ी संख्या में आते हैं।   यात्रा के संयोजक विवेक यादव के अनुसार इस अखंड भारत संकल्प यात्रा का उद्देश्य लोगों में देशभक्ति का जज्बा पैदा करना तथा प्रकृति प्रधान इस देश की प्रकृति का संरक्षण करने का संदेश देना है। यात्रा में छोटे बच्चों से लेकर महिलाएं, व बुजुर्ग तैराक शामिल हैं। यह देखने में जितनी अच्छी लगती है, उतनी ही खतरनाक तैराकी होती है। नर्मदा अपने प्रचंड वेग से प्रवाहित होती हैं। हालांकि सुरक्षा का ख्याल भी रखा जाता है, लेकिन तैराकों का जोश लहरों को चीरकर अपनी मंजिल पा लेता है। यात्रा का समापन तिलवाराघाट में राष्ट्रगान के साथ होगा, साथ ही प्रतिभागियों को सम्मान पत्र व स्मृति चिंह दिया जाएगा।  150 से ज्यादा तैराक शामिल  जिलहरीघाट से सुबह 8.30 बजे शुरू हुई तिरंगा यात्रा में 150 से अधिक तैराक शामिल हुए। जिलहरीघाट नित्य तैराकी मंडल के विवेक यादव ने बताया कि 14 अगस्त को 11 वें वर्ष अखंड भारत संकल्प यात्रा निकाली गई। तैराक नर्मदा की अथाह जलराशि के बीच एक हाथ में तिरंगा लेकर तैराकी करते हुए जोश के साथ शामिल हुए। यात्रा जिलहरीघाट से ग्वारीघाट, खारीघाट, ललपुर गांव होते हुए यह यात्रा तिलवाराघाट पहुंचकर सम्पन्न हुई। दक्ष तैराकों की निगरानी में तिरंगा यात्रा पूरी होती है।
Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned