लैंड स्लाइडिंग - एनएच पर गिरा पहाड़, तीन राज्यों का आवागमन प्रभावित

लैंड स्लाइडिंग - एनएच पर गिरा पहाड़, तीन राज्यों का आवागमन प्रभावित

deepak deewan | Publish: Sep, 09 2018 11:38:19 AM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

एनएच पर गिरा पहाड़

जबलपुर. जबलपुर के पास पहाड़ों का दरकना जारी है। एमपी को दो राज्यों छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र से जोड़ते हाईवे पर पहाड़ गिर रहे हैं। हाईवे पर पहाड़ गिरने से इन राज्यों का आवागमन प्रभावित हो रहा है। मार्ग डायवर्ट कर वाहनों को निकाला जा रहा है क्योंकि रास्ते में कई जगहों पर पहाड़ का मलबा और चट्टान पड़ी हैं।

नागाघाटी और चूल्हा गोलाई में हादसे का जोखिम

जबलपुर को रायपुर और नागपुर से जोडऩे वाले दोनों नेशनल हाइवे (एनएच-30 और एनएच-7) पर पहाडिय़ों से पत्थर गिरने के कारण हादसे की आशंका को देखते हुए वाहनों को डायवर्टेड मार्ग से निकाला जा रहा है। पिछले साल भी चार माह तक रूट डायवर्ट किया गया था। जबलपुर से रायपुर को जोडऩे वाले एनएच-30 पर नागाघाटी की 50 से 70 फुट ऊंची पहाड़ी को सीधा काटकर सडक़ बनाई गई है। बारिश के कारण पहाड़ी के पत्थर नेशनल हाइवे पर गिरने लगे तो पहाड़ी को लोहे की जाली से बांधा गया। इसके बाद भी पत्थरों का गिरना नहीं रुका। सडक़ पर मलबा पड़े होने से वाहन डायवर्टेड मार्ग से गुजर रहे हैं। डायवर्टेड मार्ग की हालत भी ठीक नहीं होने से वाहनों के कलपुर्जे खराब हो रहे हैं।
उधर, एनएचएआई के एनएच-7 पर बरगी क्षेत्र के हुलकी मोड़ से चूल्हा गोलाई तक बनाई गई सडक़ का है। यहां एक किमी के दायरे में कई स्थानों पर पत्थर और पहाड़ी का मलबा पड़ा हुआ है। इससे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।


पहाड़ी पर जाली लगाने के बाद भी पत्थरों का गिरना जारी

एमपीआरडीसी के प्रोजेक्ट मैनेजर, आरपी सिंह के अनुसार अब बरसात के बाद इस समस्या का स्थायी हल निकालने का प्रयास किया जाएगा। वे बताते हैं कि हमने नागाघाटी का मुआयना किया है। पहाड़ी को लोहे की जाली से बांधने के बाद भी पत्थर गिर रहे हैं। हादसा टालने के लिए रूट डायवर्ट किया गया है। बारिश के बाद प्रशासन, वन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned