वीडियो: शिफूजी ने कहा- नेता, अभिनेता नहीं... ये हैं देश के असली सेलिब्रिटी

कहा- नेता या अभिनेता फौजियों जैसी परिस्थिति में दो दिन रहकर बता दें तो उन्हें भी मान जाएं सेलिब्रिटी

जबलपुर। दुश्मन को पाकिस्तान की सीमा में घुसकर मुंहतोड़ जवाब देने वाले वीर जवानों को गणतंत्र दिवस पर सम्मानित किए जाने से शिफूजी, शौर्य भारद्वाज बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा है देश के असली हीरो हमारी सेना के जवान ही हैं। अल्प प्रवास पर जबलपुर आए शिफूजी ने कहा कि सेलिब्रिटीज की गलत परिभाषा गढ़ ली गई है। यह परिभाषा नेताओं और अभिनेताओं के इर्द-गिर्द घूमती नजर आती है, जबकि वास्तव में हमारे वीर जवान सबसे सबसे सेलिब्रिटी हैं। इनके सम्मान को देश भर उत्सव के रूप में मनाया जाना चाहिए। 




दो दिन रहकर दिखा दें 
पाकिस्तानी घुसपैठियों और आतंकवादियों को अपने अंदाज में चुनौती देने वाले शिफूजी शौर्य भारद्वाज ने कहा कि सेना के जवान विपरीत परिस्थियों में तैनात रहकर देश की रक्षा करते हैं। उन्होंने चुनौती दी कि फौजियों के अलावा कोई नेता या अभिनेता ऐसी परिस्थिति में दो दिन बिताकर दिखा दे, तो उन्हें भी हम सच में सेलिब्रिटी मान लेंगे। 




खुशियां मनाने का दिन
शिफूजी ने दिल्ली के राजपथ में सम्मानित हुए सेना के जवानों को शुभकामनाएं दीं और इसकी खुशियां भी मनाईं। उन्होंने कहा कि देश में इससे बढ़कर खुशी का कोई दूसरा दिन नहीं हो सकता। फौजी भगवान का रूप है। देश पर विपत्ति आने पर ईश्वर या अल्लाह को याद करने पर भी फौजी ही उनके रूप में हमारी रक्षा के लिए आगे आएंगे। इनका सम्मान होना चाएि। हर भारतवासी को अपनी सेना पर गर्व होना चाहिए।



दें एकता का संदेश
वर्ल्ड के बेस्ट कमांडो ट्रेनर शिफूजी ने कहा कि कुछ लोग अपने स्वार्थ के कारण देश को बांटने पर तुले हैं। हिन्दू-मुसलमान या अन्य मजहब की बातें करते हैं। हमें मिलकर दिखा देना चाहिए कि हम केवल भारतवासी हैं। अगर दुश्मन  के लोग गोलियां बरसाते हैं कि वे ये नहीं देखते कि सामने वाला कौन है? उनके लिए तो भारत का हर नागरिक दुश्मन है, चाहे वह किसी भी मजहब का हो...। हमें भी बता देना चाहिए कि हर मजहब को मानकर भी हम सच्चे भारतवासी हैं। हिन्दू और मुसलमान को आपस में बांटकर देश को तोडऩे का प्रयास करने वालों को कड़ा जवाब दिया जाना चाहिए।


Soldier only real celebrity

किसान को मिले मान
शिफूजी ने कहा कि किसान देश की रीढ़ है। अगर किसान कमजोर हुआ तो समझ लो कि दो वक्त की रोटी का जुगाड़ कमजोर हो रहा है। किसानों की समस्याओं पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। अन्नदाता को उसका वाजिब हक मिलना चाहिए। अगर देश की कृषि मजबूत हो गई तो हमारी अर्थव्यवस्था को कोई डिगा नहीं पाएगा।
Show More
niraj kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned