अदालतों में पैरवी करने नहीं गए वकील, पूरे प्रदेश में हुआ विरोध- देखें वीडियो

प्रदेशभर में न्यायिक कार्य से रहे विरत

By: Lalit kostha

Updated: 08 Oct 2021, 12:54 PM IST

जबलपुर। राज्य के वकीलों की नियामक संस्था एमपी स्टेट बार काउंसिल के आह्वान पर गुरुवार को राज्य के वकील किसी भी अदालत में पैरवी करने नहीं गए। सभी प्रतिवाद दिवस मनाते हुए न्यायिक कार्य से विरत रहे। वकीलों ने आम्बेडकर चौक पर प्रदर्शन करते हुए प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा। सिवनी में काउंसिल के आदेश का पालन नहीं हुआ। इस पर सिवनी अधिवक्ता संघ को कदाचरण का नोटिस भेजा गया।

राज्य भर में हुआ विरोध
स्टेट बार काउंसिल के सचिव प्रशांत दुबे ने बताया कि जबलपुर सहित मध्य प्रदेश के अनेक जिलों में विगत आठ माह के दौरान अधिवक्ताओं के ऊपर हमले, मारपीट व अभद्रता की घटनाओं में इजाफा हुआ है। न्यायाधीशों द्वारा अधिवक्ताओं के प्रति अशोभनीय टिप्पणियां भी सामने आई हैं। जिला अदालत जबलपुर के गेट नंबर एक से अधिवक्ताओं की कारों का प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया। शांतिपूर्ण धरना-प्रदर्शन के दौरान अधिवक्ताओं को गिरफ्तार किया गया। आक्रोशित वकीलों की मांग पर एक दिनी प्रतिवाद दिवस मनाया गया।

 

वकीलों ने किया प्रदर्शन दोपहर में जिला अदालत, जबलपुर के वकीलों ने आंबेडकर चौक पर संविधान निर्माता बाबा साहब आंबेडकर की प्रतिमा के समक्ष प्रदर्शन किया गया। जिला जज नवीन कुमार सक्सेना व जिला न्यायालय की रजिस्ट्रार शुभांगी पालो दत्त की कोर्ट के बहिष्कार का भी निर्णय लिया गया। इस दौरान प्रदेश के हाईकोर्ट सहित जिला व तहसील न्यायालयों में अधिवक्तागण उपस्थित नहीं हुए।

हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रमन पटेल, सचिव मनीष तिवारी, हाईकोर्ट एडवोकेट्स बार एसोशिएशन के अध्यक्ष मनोज शर्मा, सचिव हरप्रीत रूपराह, जिला बार एसोशिएशन के अध्यक्ष सुधीर नायक, सचिव राजेश तिवारी के साथ बड़ी संख्या में वकील मौजूद रहे। स्टेट बार काउंसिल के उपाध्यक्ष आर.के. सिंह सैनी ने कहा कि अधिवक्ताओं के सम्मान से खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned