Loksabha election 2019 : प्रधानमंत्री की आमसभा को अनुमति नहीं देने पर भाजपा ने उठाए सवाल

भाजपा का आरोप-कांग्रेस के दबाव में काम कर रही हैं जिला निर्वाचन अधिकारी

By: abhishek dixit

Updated: 20 Apr 2019, 09:02 PM IST

जबलपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गोलबाजार में प्रस्तावित आमसभा को अनुमति नहीं देने पर भाजपा ने निर्वाचन आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाए हैं। भाजपा के जबलपुर लोकसभा संयोजक प्रभाात साहू ने शनिवार को पत्रकारवार्ता में आरोप लगाया कि जिला निर्वाचन अधिकारी छवि भारद्वाज कांग्रेस के दबाव में काम कर रही हैं। जब जिला प्रशासन बीच शहर में पीएम को सुरक्षा उपलब्ध नहीं करा सकता, तो निष्पक्ष चुनाव की उम्मीद नहीं की जा सकती। उन्होंने निर्वाचन आयोग से जिला निर्वाचन अधिकारी छवि भारद्वाज को हटाने की मांग की।

साहू ने कहा कि प्रधानमंत्री की सभा के लिए शहीद स्मारक गोलबाजार मैदान उपलब्ध न कराकर जिला निर्वाचन कार्यालय कांग्रेस प्रत्याशी विवेक तन्खा के दबाव में काम कर रहा है। उनका कहना था कि तन्खा प्रदेश के मुख्य सचिव एचआर मोहंती के कई न्यायालयीन केस में पैरवी कर रहे हैं। इसलिए पूरा प्रशासन उनके दबाव में कांग्रेस के पक्ष में काम करता प्रतीत हो रहा है।

भाजपा नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर ने आरोप लगाया कि चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन से सम्बंधित जो भी शिकायतें भाजपा की ओर से की गईं, उनमें जिला निर्वावन अधिकारी ने उपयुक्त कार्रवाई नहीं की। इसके मद्देनजर भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव पर्यवेक्षक से भेंट कर वस्तुस्थिति से अवगत कराया है। उन्होंने इस मामले में न्यायालय में याचिका दायर करने की भी बात कही।

इससे पहले शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जबलपुर में होने वाली सभा के स्थल को लेकर विवाद की स्थिति बनी। भाजपा संगठन का आरोप था कि कांग्रेस के प्रत्याशी विवेक तन्खा के दबाव में प्रशासन शहीद स्मारक में पीएम मोदी की सभा की अनुमति नहीं दे रहा है। वहीं कांग्रेस ने भाजपा के आरोप पर पलटवार किया था। कांग्रेस नगर अध्यक्ष दिनेश यादव का कहना है कि भाजपा में अब भीड़ जुटाने की क्षमता नहीं हैं, इसलिए छोटे मैदान में पीएम की सभा कराना चाहते हैं। उन्होंने भाजपा के आरोपों को बेबुनियाद बताया है।

pm modi
abhishek dixit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned