हेल्प सेंटरों में लगेगी पुलिस, खदेडे़ जाएंगे कॉलेजों के एजेंट

हेल्प सेंटरों में लगेगी पुलिस, खदेडे़ जाएंगे कॉलेजों के एजेंट
Look in the Help centers, police,deported will Colleges Agent

Mayank Kumar Sahu | Publish: May, 08 2019 10:39:22 PM (IST) | Updated: May, 08 2019 10:39:23 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

खबर के बाद हरकत में आया उच्च शिक्षा विभाग, हेल्प सेंटर बने कॉलेजों को जारी किए निर्देश, मांगी रिपोर्ट

जबलपुर।

यह भी दिए निर्देश

- कैम्पस के अंदर बाहरी लोगों की आवाजाही प्रतिबंधित की जाए।

- केवल छात्रों को पहचान के आधार पर प्रवेश दिया जाए।

- यदि कोई छात्र शिकायत करता है तो तत्काल पंजीबद्ध किया जाए।

- कैम्पस में आवश्यकता पडऩे पर पुलिस की मदद ली जाए।

बीएड एवं एमएड की प्रवेश प्रक्रिया को लेकर हेल्प सेंटरों में निजी कॉलेजों के एजेंटो के कैम्पस के अंदर बने रहने और सेटिंग से छात्र-छात्राओं के आवेदनों में बदलाव कर अपने कॉलेज में प्रवेश दिलाने के मामलों को लेकर उच्च शिक्षा विभग ने गंभीरता से लिया है। सख्त रुख अपनाते हुए एेसे हेल्प सेंटरों में पुलिस की निगरानी में प्रक्रिया कराने के लिए संबंधित कॉलेज प्राचार्यों को निर्देशित किया गया है। साथ ही इस तरह की शिकायतों की पूरी रिपोर्ट संबंधित सेंटरों से तलब की है। किन कॉलेजों के खिलाफ छात्र-छात्राओं ने शिकायत की गई हैं उनके आवेदन भी सेंटरों के माध्यम से तलब करने के लिए कहा गया है। विदित हो कि प्रदेश के कॉलेजों में बीएड एवं एमएड सत्र 2019-20 की प्रवेश प्रक्रिया शुरू की गई है, शहर में करीब दो दर्जन एेसे कॉलेज हैं।

शहर में बने हैं चार हेल्प सेंटर

बीएड, एमएड की ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया को लेकर शहर में चार हेल्प सेंटर बनाए गए हैं। इनमें शासकीय महाकोशल कॉलेज, मानुकंवर बाई कॉलेज, साइंस कॉलेज एवं होमसाइंस कॉलेज शामिल है। हेल्प सेंटरों में विजयनगर, सालीवाडा़, आईटीआई, दमोहनाका, सिविल लाइंस, कटंगी, नेपियर टाउन आदि क्षेत्रों के बीएड-एमएड कॉलेजों की लिस्टिंग कर सेंटर दिए गए हैं। साइंस कॉलेज को एमएड वेरिफिकेशन के लिए अधिकृत किया गया है।

मदद के बहाने बदल रहे हैं च्वाइस

निजी कॉलेजों द्वारा हेल्प सेंटरों में शिक्षकों को खड़ा किया है ताकि वेरिफिकेशन में मदद की जा सके। लेकिन ये कथित शिक्षक एजेंट मदद के बहाने छात्र-छात्राओं को दस्तावेज लेकर मोबाइल नंबर बदलकर ओटीपी की मदद से च्वाइस फिलिंग में बदलाव कर रहे हैं। ताकि अपने कॉलेज में दाखिला करवाया जा सके। इसके लिए कॉलेज प्रबंधन के साथ शिक्षक भी जमघट लगाए रहते हैं। पीडि़त छात्र छाया ग्रोवर, रजनी, अमित कुमार, अजय पटेल आदि ने विभिन्न कॉलेजों की शिकायत उच्च शिक्षा विभाग से की है।

-शिकायतों को देखते हुए रिपोर्ट मांगी है। संबंधित कॉलेजों के प्राचार्यों, विवि प्रशासन को आदेशित किया है कि हेल्प सेंटरों में बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश को पूरी तरह वर्जित किया जाए। इसके लिए पुलिस प्रशासन की मदद ली जाए। निर्देशों का यदि संबंधित सेंटरों में पालन होता नहीं मिलता है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

-डॉ.धीरेंद्र शुक्ला, ओएसडी, उच्च शिक्षा विभाग

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned