Lord Surya Mantra in hindi- इस मंत्र से मिटेगी हर बाधा, मनोकामना होगी पूरी

रविवार के दिन नीचे दिए गए मंत्रों में से जो भी मंत्र आसानी से याद हो सकें उसके द्वारा सूर्य देव का पूजन-अर्चन करें

By: Lalit kostha

Published: 30 Jul 2017, 11:08 AM IST

जबलपुर। प्रत्येक रविवार को सूर्य पूजन और सूर्य मंत्र का 108 बार जाप करने से अवश्य लाभ मिलता है। अगर भाषा व उच्चारण शुद्ध हो तो आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ अवश्य करें। यह अनुभूत प्रयोग है। रविवार के दिन नीचे दिए गए मंत्रों में से जो भी मंत्र आसानी से याद हो सकें उसके द्वारा सूर्य देव का पूजन-अर्चन करें। फिर अपनी मनोकामना मन ही मन बोलें। भगवान सूर्य नारायण आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण करेंगे। 

1. ऊं घृ‍णिं सूर्य्य: आदित्य:
2. ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय सहस्रकिरणराय मनोवांछित फलम् देहि देहि स्वाहा।
3. ॐ ऐहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजो राशे जगत्पते, अनुकंपयेमां भक्त्या, गृहाणार्घय दिवाकर:। 
4. ॐ ह्रीं घृणिः सूर्य आदित्यः क्लीं ॐ । 
5. ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः । 
 

हर द‌िन सूर्य को जल देना चाह‌िए

शास्‍त्रों में भी कहा गया है क‌ि हर द‌िन सूर्य को जल देना चाह‌िए और बहुत से लोग इस न‌ियम का पालन भी करते हैं। लेक‌िन इसके भी न‌ियम हैं ज‌िन्हें जानकर सूर्य को जल दें तो जीवन के व‌िभ‌िन्न क्षेत्रों में इसका लाभ प्राप्त क‌िया जा सकता है। महाभारत में कथा है क‌ि कर्ण न‌ियम‌ित सूर्य की पूजा करते थे और सूर्य को जल का अर्घ्य देते थे। सूर्य की पूजा के बारे में भगवान राम की भी कथा म‌िलती है क‌ि वह भी हर द‌िन सूर्य की पूजा और अर्घ्य द‌िया करते थे। 

ज्योत‌िषशास्‍त्र में सूर्य को आत्मा का कारक बताया गया है। न‌ियम‌ित सूर्य को जल देने से आत्म शुद्ध‌ि और आत्मबल प्राप्त होता है। सूर्य को जल देने से आरोग्य लाभ म‌िलता है। सूर्य को न‌ियम‌ित जल देने से सूर्य का प्रभाव शरीर में बढ़ता है और यह आपको उर्जावान बनाता है। कार्यक्षेत्र में इसका आपको लाभ म‌िलता है। ज‌िनकी नौकरी में परेशानी चल रही हो वह न‌ियम‌ित सूर्य को जल देना शुरु करें तो उच्चाध‌िकारी से सहयोग म‌िलता है और मुश्क‌िलें दूर होती हैं।


सूर्य को जल देने के न‌ियम के बारे में कहा जाता है क‌ि सूर्य को स्नान के बाद तांबे के बर्तन से जल अर्प‌ित करें। सूर्य को जल देने से पहले जल में चुटकी भर रोली या लाल चंदन म‌िलाएं और लाल पुष्प के साथ जल दें। सूर्य को जल देते समय 7 बार जल दें। इसके साथ सूर्य के मंत्र का जप करें तो यह व‌िशेष लाभप्रद रहता है। संभव हो तो इस दौरान लाल वस्‍त्र धारण करें।

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned