#Magnificent MP 2019 : प्रदेश के इस जिले जिले में बनेगा बड़ा जमीन बैंक, वन विभाग से वापस ली जाएगी जमीन

निवेश की संभावनाओं को लेकर प्रशासन ने शुरू की तैयारियां

 

By: reetesh pyasi

Published: 19 Oct 2019, 08:15 PM IST

जबलपुर। जिले में नारंगी क्षेत्र की भूमि को राजस्व मद में शामिल कर बड़ा जमीन बैंक बनाया जाएगा। यहां विकास एवं निर्माण के साथ निवेश को आकर्षित कर रोजगार की सम्भावनाएं तलाशी जाएंगी। कलेक्टर भरत यादव ने राजस्व अधिकारियों की बैठक में यह प्रक्रिया तेज करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि कार्रवाई में वन और राजस्व विभाग को सकारात्मक रुख अपनाना होगा। जिले में अलग-अलग तहसीलों में 14 हजार हेक्टेयर से ज्यादा जमीन वन विभाग से वापस ली जानी है।

विकास कार्यों के लिए भूमि का उपयोग
कलेक्टर ने कहा कि नारंगी क्षेत्र में यदि वास्तव में वन है तो उसे वन भूमि में शामिल करना होगा।नारंगी क्षेत्र को राजस्व मद में शामिल करने की प्रक्रिया में ऐसी भूमि को प्राथमिकता दी जाए, जिसके बारे में दोनों विभागों के बीच संशय की स्थिति नहीं है। प्रक्रिया का मकसद ऐसी भूमि का उपयोग विकास कार्यों के लिए करना है जो न तो आरक्षित वन क्षेत्र है, न ही वन क्षेत्र की परिभाषा के दायरे में शामिल है, साथ ही वो भूमि वन विभाग के नाम पर भी दर्ज नहीं है। बैठक में वनमंडल अधिकारी रवींद्रमणि त्रिपाठी, जिला पंचायत के सीईओ प्रियंक मिश्र, अपर कलेक्टर संदीप जीआर एवं अपर कलेक्टर हर्ष दीक्षित भी मौजूद थे।
read also: Magnificent MP 2019: प्रदेश के इस शहर में निवेश की अपार संभावनाएं, यह है वजह

उमरिया की तरह तलाशें जमीन
कलेक्टर ने बैठक में कुंडम मार्ग पर उमरिया में गौशाला के चिह्नित की गई भूमि की तरह शहर के बाहर पाटन, शहपुरा और पनागर मार्ग पर भी चालीस से पचास एकड़ भूमि चिह्नित करने के निर्देश राजस्व अधिकारियों को दिए हैं। उन्होंने जबलपुर से शहपुरा मार्ग पर करीब 500 हेक्टेयर भूमि का लैंड बैंक सुरक्षित रखने पर भी जोर दिया, ताकि जरूरत पडऩे पर औद्योगिक इकाइयों के लिए तुरंत भूमि उपलब्ध कराई जा सके।

reetesh pyasi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned