मकर संक्रांति पर लगी आस्था पुण्य की डुबकी- देखें लाइव वीडियो

Lalit kostha

Publish: Jan, 14 2018 02:26:06 PM (IST)

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
मकर संक्रांति पर लगी आस्था पुण्य की डुबकी- देखें लाइव वीडियो

हर तरफ हर हर नर्मदे की गूंज से तटों का माहौल धार्मिक हो गया

जबलपुर। जन आस्था का पर्व मकर संक्रांति संस्कारधानी जबलपुर में धूमधाम से मनाया जा रहा है। भोर की किरणे धरती पर आतीं, इसके पहले ही श्रद्धालु नर्मदा तटों पर पहुंचने शुरू हो गए थे। सूर्योदय तक हजारों की संख्या में श्रद्धालु नर्मदा में पुण्य की डुबकी लगा चुके थे। हर तरफ हर हर नर्मदे की गूंज से तटों का माहौल धार्मिक हो गया।

मकर संक्रांति का मुख्य मेला तिलवाराघाट में लगा है। यहां रविवार से ही लोगों ने स्नान, दान पुण्य करना शुरू कर दिया है। सुबह से लोगों के पैर रखने तक की जगह नहीं बची है। हजारों की संख्या में नगर सहित आसपास के क्षेत्रों से भी लोग बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। इसी तरह ग्वारीघाट में भी भारी भीड़ नर्मदा स्नान करने पहुंचे हैं। लम्हेटाघाट, भेड़ाघाट, भटौली घाट सहित अन्य नर्मदा तटों पर भी लोग स्नान करने पहुंच रहे हैं।


यहां भी लग रही डुबकी
नरसिंहपुर जिले के झांसीघाट, सांकल घाट, सरौआघाट, बरमानघाट में भी मकर संक्रांति का मेला लगा हुआ है। बरमान घाट में सबसे ज्यादा श्रद्धालु पहुंचे हैं। दमोह, कटनी की नदियों के तटों पर भी आस्था की डुबकी लगाने वाले हजारों की संख्या में पहुंच रहे हैं।

 

हिरन में लगाई आस्था की डुबकी, मेला में उमड़ी भीड़
मकर संक्रांति के पावन अवसर पर रविवार को पुण्य सलिला हिरन नदी के तट पर श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। सुबह से ही खितौला, घाटसिमरिया सहित दर्जन भर स्थानों पर स्नान के लिए भारी भीड़ उमडऩे लगी। संक्रांति के साथ कुम्ही सतधारा में दस दिवसीय और गंजताल और मुरैठ में मेलों की शुरूआत हो गई।
कुम्ही (सतधारा) में मेले की शुरूआत काफी धीमी रही, लेकिन सात धाराओं के बीच पुण्य सलिला हिरन में स्नान के लिए आसपास से ग्रामीणों की भीड़ तडक़े पहुंचने लगी। मझौली तहसील के गंजताल में दो दिवसीय मेले का शुभारंभ हो गया। प्राचीन तालाब के किनारे करीब दो एकड़ में लगने वाले में पहले ही दिन ग्रामीणों की भारी भीड़ देखने को मिली। सरंपच फूल बाई प्रजापति ने मेले का शुभारंभ भगवान शिव के पूजन-अर्चन के साथ किया। वहीं मुरैठ ग्राम में सात दिवसीय मेला आज से शुरू हो गया। मझौली तहसील के मुरैठ ग्राम में तीन दिवसीय मेले में भी ग्रामीण क्षेत्रों से भारी लोग हिरन नदी में स्नान करने के लिए पहुंचे। मुरैठ मेला तहसील में प्रसिद्ध है।

Ad Block is Banned