scriptmalnourished children in mp, MP government health schemes fail | मप्र सरकार की योजनाओं को ठेंगा, हर साल मिल रहे हजारों कुपोषित बच्चे, पढ़ें ये खबर | Patrika News

मप्र सरकार की योजनाओं को ठेंगा, हर साल मिल रहे हजारों कुपोषित बच्चे, पढ़ें ये खबर

मप्र सरकार की योजनाओं को ठेंगा, हर साल मिल रहे हजारों कुपोषित बच्चे, पढ़ें ये खबर

 

जबलपुर

Updated: March 05, 2022 09:01:54 am

मनीष गर्ग@जबलपुर। जिले में कुपोषण का दंश कम नहीं हो रहा है। कुपोषण की रोकथाम के लिए तमाम प्रयासों और दावों के बावजूद बच्चों की संख्या कम नहीं हो रही है। कुपोषण कम करने के लिए कई योजनाएं भी चलाई जा रही हैं। परंतु आंकड़े कुछ और ही बता रहे हैं। कुपोषित व अति कुपोषित बच्चों की दो श्रेणिया बनाई गई हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से अति कुपोषित बच्चों को पोषण पुनर्वास केंद्र में रखकर बेहतर इलाज का दावा किया जा रहा है।

demo pic
demo pic

कोरोना के कारण कम संख्या में एनआरसी पहुंचे अति कुपोषित बच्चे
दो साल में 2273 अति कुपोषित बच्चे चिन्हित, सिर्फ 1436 पहुंचे एनआरसी

अति कुपोषित बच्चों को जिला व ब्लॉक स्तर पर संचालित पोषण पुनर्वास केंद्र में आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से महिला एवं बाल विकास विभाग के द्वारा पहुंचाया जाता है। पिछले दो वर्ष के आंकड़े देखें तो अति कुपोषित बच्चे चिह्नित तो ज्यादा हुए, लेकिन पोषण पुनर्वास केंद्रों में कम संख्या में पहुंचे। विभाग द्वारा मौजूदा वित्तीय वर्ष में 2273 अति कुपोषित बच्चे चिह्नत किए गए। इनमें से मात्र 1476 बच्चे पोषण पुनर्वास केंद्र (एनआरसी) पहुंचे।

kuposhan in panna district
IMAGE CREDIT: kuposhan in panna district

महिला एवं बाल विकास विभाग और स्वास्थ्य विभाग की ओर से अति कुपोषित बच्चों को पोषण पुनर्वास केंद्र में रखकर बेहतर इलाज का दावा किया जा रहा है। कुपोषित व अति कुपोषित बच्चों की निगरानी की जा रही है और इसके बाद ये ठीक हुए हैं।
दो वर्षों के दौरान चिह्नित अति कुपोषण बच्चों की तुलना में पोषण पुनर्वास केंद्र बच्चों के कम पहुंचने का कारण कोरोना की पहली व दूसरी लहर को बताया जा रहा है। विभागीय जानकारी के अनुसार पहले जहां 2200 से 2500 बच्चे प्रति वर्ष पोषण पुनर्वास केंद्र पहुंचते थे। वर्ष 2020-21 व 2021-22 में फरवरी तक इनकी संख्या कम हो गई।

दोनों विभाग चिह्नित करते हैं
पोषण पुनर्वास केंद्र में आंगनबाड़ी और स्वास्थ्य विभाग के मैदानी कार्यकर्ताओं द्वारा चिह्नित अति कुपोषित बच्चों को इलाज के लिए भेजा जाता है। जिले में 9 पोषण पुनर्वास केंद्र हैं। एल्गिन हॉस्पिटल, मेडिकल कॉलेज व विक्टोरिया जिला अस्पताल में 20-20 बच्चों और ब्लॉक के केंद्रों में 10-10 बच्चों को रखा जाता है। 14 दिन के बैच में बच्चों को चिकित्सकीय परामर्श के साथ पौष्टिक आहार दिया जाता है। बच्चों की माताओं को भी पोषण आहार बनाने व बच्चों को खिलाने का प्रशिक्षण दिया जाता है। वजन, लम्बाई और उम्र के हिसाब से कुपोषित व अति कुपोषित बच्चों को चिह्नित किया जाता है। एनआरसी से छुट्टी होने के बाद सभी का फॉलोअप भी किया जाता है।

आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से कुपोषित व अति कुपोषित बच्चों को चिह्नत किया जाता है। अति कुपोषित बच्चों को एनआरसी भेजा जाता है। माता-पिता की काउंसिलिंग भी की जाती है।
- मनीष सेठ, सहायक संचालक, महिला बाल विकास विभाग

जिले में स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ ही महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम भी कुपोषित बच्चों की खोज करती है। इन बच्चों को पोषण पुनर्वास केंद्र भेजा जाता है।
- डॉ. रत्नेश कुररिया, सीएमएचओ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

पेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलानArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दलंदन में राहुल गांधी के दिए बयान पर BJP हमलावर, बोली- 1984 से केरोसिन लेकर घूम रही कांग्रेसThailand Open 2022: सेमीफाइनल मुक़ाबले में ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट से हारीं सिंधु, टूर्नामेंट से हुई बाहरपैंगोंग झील पर जारी गतिरोध के बीच रेलवे ने सुपरफास्ट ट्रेनों के लिए चीनी कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट क्यों दिया?Rajiv Gandhi 31st Death Anniversary: अधीर रंजन ने ये क्या कह दिया, Tweet डिलीट कर देनी पड़ रही सफाई, FIR तक पहुंची बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.