doctor बनाने लिए थे करोड़ों रुपए, यूनिवर्सिटी ने उठाया यह कदम

deepak deewan

Publish: Oct, 13 2017 03:34:57 (IST)

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
doctor बनाने लिए थे करोड़ों रुपए, यूनिवर्सिटी ने उठाया यह  कदम

स्थानीय स्टूडेंट्स को दिए एनआरआई कोर्टे से प्रवेश, मेडिकल यूनिवर्सिटी ने एनआरआई कोटे से एमबीबीएस के 25 प्रवेश किए निरस्त

जबलपुर. मध्यप्रदेश मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी ने गलत तरीके से हुए प्रवेश के मामले में गुना के साक्षी मेडिकल कॉलेज में हुए एमबीबीएस के 25 प्रवेश निरस्त कर दिए हैं। यूनिवर्सिटी के अल्टीमेटम के बाद भी अब तक मात्र तीन कॉलेजों ने एनआरआई कोटे में हुए प्रवेश से सम्बन्धित जानकारी देने के पत्र का जवाब दिया है। यूनिवर्सिटी ने अभी शेष कॉलेजों को अंतिम चेतावनी पत्र भेजकर जवाब देने के निर्देश दिए हैं।


१२ अक्टूबर तक की थी मियाद
मेडिकल यूनिवर्सिटी ने सभी सम्बद्ध मेडिकल व डेंटल कॉलेजों को निर्देश दिए थे कि वे एनआरआई कोटे के तहत हुए प्रवेश से सम्बन्धित दस्तावेज सात दिन के भीतर उपलब्ध कराएं। यूनिवर्सिटी ने 12 अक्टूबर तक का समय दिया था। इसके बाद भी कॉलेजों ने एनआरआई कोटे के तहत हुए प्रवेश की जानकारी नहीं दी। बुधवार तक कुल तीन कॉलेजों ने जानकारी दी है। जिसमें से हितकारणी डेंटल कॉलेज जबलपुर की ओर से कहा गया कि उनके यहां इस कोटे के तहत एक भी प्रवेश नहीं हुआ। महाराणा प्रताप मेडिकल कॉलेज ग्वालियर द्वारा नियमों का पालन करके प्रवेश देने की बात कहते हुए दस्तावेजों को उपलबध कराने समय मांगा है।


कॉलेज स्तर पर दे दिया था प्रवेश
मेडिकल यूनिवर्सिटी द्वारा साक्षी मेडिकल कॉलेज गुना के दस्तावेजों की जांच में यह पाया कि कॉलेज ने कॉलेज स्तर पर ही सीधे प्रवेश दे दिया था। नियमानुसार संचालक चिकित्सा शिक्षा के निर्देशानुसार काउंसलिंग में शामिल होने के बाद छात्रों को सीटों का आवंटन होना था।
दी अंतिम चेतावनी
मध्यप्रदेश मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. आरएस शर्मा के अनुसार मेडिकल यूनिवर्सिटी ने एनआरआई कोटे के तहत साक्षी मेडिकल कॉलेज गुना में हुए २५ प्रवेश निरस्त कर दिए हैं। संबधित कॉलेज ने प्रवेश प्रकिया का पालन नहीं किया और कॉलेज लेवल काउंसलिंग करके ही प्रवेश दे दिए। साक्षी मेडिकल कॉलेज के डीन को इसकी जानकारी दे दी गई है। जिन कॉलेजों ने जवाब नहीं दिए उन्हें आखिरी मौका दिया जा रहा है।

 

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned