MP की इस यूनिवर्सिटी में लाखों रुपए का घोटाला, असम से दिल्ली तक हड़कंप

बैंक से जारी सीरीज के फर्जी चेक से हुआ बड़ा गबन

By: Premshankar Tiwari

Published: 17 Feb 2018, 12:50 PM IST

जबलपुर। प्रदेश की एक यूनिवर्सिटी के खाते से जालसाज लाखों रुपए निकालते रहे और और अधिकारियों को फर्जीवाड़े की भनक तक नहीं लगी। जालसाजों ने एक के बाद कई चेक का भुगतान हासिल कर लिया। यूनिवर्सिटी के अधिकारी हरकत में उस वक्त जब उनके खाते से मोटी रकम कम हो गई। मामला जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय का है। गड़बड़झाला सामने आने के बाद विवि प्रशासन ने आनन-फानन में शुक्रवार को अधारताल थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

फर्जी चेक से 16 लाख निकाले
पुलिस के अनुसार कृषि विवि के खातों से रकम फर्जी चेक के जरिए निकाली गई। कृषि विवि को बैंक की ओर जारी चेकबुक के सीरीज की चेकबुक जालसाजों के हाथ लग गई। उन्होंने इस चेकबुक को भुनाना शुरू कर दिया। इस सीरीज की चेकबुक से कृषि विवि के बैंक खाते से आरोपितों ने कई बार भुगतान हासिल किया। विवि के अकाउंट से करीब 16 लाख रुपए की राशि का गबन कर लिया।

अकाउंट सीज किया
विवि प्रशासन ने हाल ही में बिल भुगतान के लिए चेक जारी किए तो पता चला कि उन नम्बरों के चेक पहले ही भुनाए जा चुके हैं। विवि प्रशासन ने बैंक अधिकारियों से जानकारी ली तो बताया गया कि असम और दिल्ली में रकम निकाली गई है। इसके बाद विवि प्रशासन ने बैंक अकाउंट सीज करा दिया।

दिल्ली से आया ई-मेल
पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को भी एक चेक बिथड्रॉल के लिए दिल्ली के बैंक में लगाया गया। जानकारी मिलने पर विवि प्रशासन ने चेक लेकर पहुंचे व्यक्ति पर कार्रवई के लिए कहा, तब तक वह भाग चुका था।

बैंक प्रबंधन की मिलीभगत
पुलिस की मानें तो एक ही सीरीज के चेक जारी होने के मामले में बैंक प्रबंधन के कर्मचारियों की भूमिका संदेह के घेर में है। पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही है। पता लगाया जा रहा है कि एक ही सीरीज के चेक दो जगह कैसे जारी हुए।

शिकायत की जांच जारी है
अधारताल थाना प्रभारी शिवराज सिंह के अनुसार जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के अकाउंट से १६ लाख रुपए के गबन की शिकायत आई है। मामले की जांच की जा रही है।

Premshankar Tiwari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned