torture chamber है यह स्कूल, मानसिक यंत्रणाओं से गुजरते हैं मासूम

deepak deewan

Publish: Dec, 08 2017 08:02:06 (IST)

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
torture chamber  है यह स्कूल, मानसिक यंत्रणाओं से गुजरते हैं मासूम

कुशंकाओं, भय और घुटन से भरा है मासूमों का यह सरकारी स्कूल

गौरव दुबे @ जबलपुर. बच्चों के उज्जवल भविष्य का निर्माण करने की व्यवस्था के अंतर्गत स्कूल बनाए जाते हैं ताकि वे बेहतर माहौल में शिक्षा ग्रहण कर सकें पर यदि यह जगह ही मानसिक यंत्रणाओं का स्थल बन जाए तो फिर बेचारे बच्चे भला कहां जाएं? कुछ ऐसा ही वातावरण शहर के एक स्कूल में बन चुका है जहां मासूम कुशंकाओं, भय और घुटन के बीच अध्ययन करने को मजबूर हैं। मासूमों का यह सरकारी स्कूल मालवीय चौक के पास है। यहां दिनभर आग से धधकते गोलों के बीच बच्चे पढ़ाई करते हैं, इन बच्चों के लिए बने टायलेट्स में दिनभर यहां-वहां के लोग आते रहते हैं और सबसे बुरी बात तो यह है कि यहां पढऩेवाली छात्राओं की सुरक्षा की ओर भी कोई ध्यान नहीं दे रहा।


एक ही परिसर में हो रहे कई काम
मालवीय चौक के पास विसंगतियों से भरे सरकारी स्कूल में बच्चे और शिक्षक भय और घुटन के माहौल में अध्ययन और अध्यापन कर रहे हैं। हैरान कर देने वाले इस स्कूल का पूरा वातावरण रोंगटे खड़े कर देने वाला है। देश का संभवत: पहला सरकारी स्कूल है, जहां दो प्राथमिक और एक माध्यमिक स्कूल के अलावा एक संगीत विद्यालय, सफाईकर्मियों का स्टोररूम और पीडब्ल्यूडी का वर्कशॉप भी है।


दिनभर धधकते हैं अंगारे
स्कूल परिसर में ही धधकते अंगारों में गलते डामर और उसके धुएं से बच्चे और शिक्षकों का दम घुटता नजर आता है। कचरे उठाने वाले रिक्शों को बच्चे इधर-उधर करते दिखते हैं। इतना ही नहीं, सफाईकर्मियों और मजदूरों के गाली-गलौज से स्कूल परिसर गूंजता रहता है। स्कूल की इन दुर्गति के बीच आलम यह है कि सफाईकर्मी और मजदूर बच्चों के लिए बने टॉयलेट का भरपूर इस्तेमाल करते दिखते हैं। इन स्कूलों में से एक में छात्राएं पढ़ती हैं। सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये बेटियां किस तरह से सहमी होती हैं। शासकीय जॉर्ज टाउन स्कूल परिसर में सुभाष नगर और कमला नेहरू विद्यालय भी समाहित है। इसके अलावा इसी परिसर में शारदा संगीत महाविद्यालय भी संचालित है, जिसमें छात्र-छात्राओं के लिए शाम को क्लासेस लगती हैं।


ऐसी हो रही है दुर्गति
- मालवीय चौक के पास जॉर्ज टाउन स्कूल में नगर निगम के कई कार्यालय
- स्कूल परिसर में ही गला रहे डामर
- सफाईकर्मी और मजदूर करते हैं टॉयलेट का इस्तेमाल


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned