50 से अधिक कोरोना संक्रमित आए सामने, 20 सितम्बर तक हाईकोर्ट में लॉकडाउन

- संक्रमण की चेन तोडऩे के लिए लिया गया फैसला, रजिस्ट्रार जनरल ने जारी किया आदेश

By: govind thakre

Published: 15 Sep 2020, 08:52 PM IST

जबलपुर. मध्य प्रदेश हाईकोर्ट की जबलपुर मुख्यपीठ में 16 से 20 सितम्बर तक कामकाज पूरी तरह बंद रहेगा। कोरोना संक्रमण की चेन तोडऩे के लिए यह निर्णय लिया गया। हाईकोर्ट, स्टेट बार काउंसिल व महाधिवक्ता कार्यालय सहित अन्य को मिलाकर 50 से से अधिक कोराना पॉजिटिव मरीज सामने आ चुके हैं। इसे देखते हुए रजिस्ट्रार जनरल आरके वाणी ने एहतियात बरतते हुए यह आदेश जारी किया।
चीफ जस्टिस अजय कुमार मित्तल के आदेश पर रजिस्ट्रार जनरल वाणी ने मंगलवार को उक्ताशय का सर्कुलर जारी किया। इसके अनुसार जिस तरह तेजी से कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं, उसे देखते हुए हाईकोर्ट बंद रखना आवश्यक है। इसीलिए न्यायिक, प्रशासनिक व रजिस्ट्री के कार्य को पांच दिन तक स्थगित करने का कदम उठाया जा रहा है।
प्रशासनिक, न्यायिक काम रहेंगे बंद
हाईकोर्ट में सीमित कामकाज के तहत जारी फिजिकल व ई-फाइलिंग भी पांच दिनों तक बंद रहेगी। इस अवधि का उपयोग हाईकोर्ट परिसर को पूरी तरह सेनेटाइज करके कोरोना-संक्रमण की कड़ी तोडऩे के लिए किया जाएगा।
कोरोना संक्रमण के खतरे को गम्भीरता से लेते हुए हाईकोर्ट के मुख्य भवन, प्रशासनिक भवन को भी बंद रखने का निर्णय लिया गया है।
बार काउंसिल है पहले से लॉक
हाईकोर्ट परिसर स्थित स्टेट बार काउंसिल के दफ्तर को कुछ कर्मियों के बीमार होने की सूचना सामने आने पर पहले ही 11 सितम्बर को 14 दिनों के लिए बंद कर दिया गया था। बार काउंसिल के चुनाव की मतगणना भी बीच में ही रोक दी गई थी।
हाइकोर्ट में 46, एजी ऑफिस मे छह
जानकारी के अनुसार हाईकोर्ट में 46 व महाधिवक्ता कार्यालय में छह कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इसके पूर्व स्टेट बार काउंसिल में कई कर्मी एक साथ कोरोना संक्रमित मिले थे। हाइकोर्ट में कोरोना फैलने की आशंका को खत्म करने के लिए पहले ही हाइकोर्ट के मुख्य द्वार को बंद करके विधि भवन वाला द्वार खोल दिया गया था। परिसर को भी दो भागों में विभक्तकरने की सावधानी बरती गई थी।

Show More
govind thakre Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned