पिता-पुत्र ने रिश्वतखोर इंजीनियर के साथ किया ऐसा, पूरे प्रदेश में होने लगी चर्चा

पिता-पुत्र ने रिश्वतखोर इंजीनियर के साथ किया ऐसा, पूरे प्रदेश में होने लगी चर्चा

Lalit kostha | Publish: Sep, 05 2018 10:08:46 AM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

पिता-पुत्र ने रिश्वतखोर इंजीनियर के साथ किया ऐसा, पूरे प्रदेश में होने लगी चर्चा

 

जबलपुर। भ्रष्टाचार पर नकेल कसने के लिए लोगों को भी आगे आना होगा तभी इस पर काबू पाया जा सकेगा और भ्रष्टाचारी लोगों को जेल की हवा खिलाई जा सकेगी। इसका जीवंत उदाहरण शहर के पिता पुत्र हैं। जिन्होंने न केवल कार्रवाई करवाई, बल्कि रिश्वतखोरों को भी पकड़वाया। इस बात की चर्चा प्रदेश आला अधिकारियों तक हो रही है।

लोकायुक्त की दो टीमों ने एक साथ मदन महल स्थित नगरीय प्रशासन विभाग के कार्यालय और भेड़ाघाट नगर परिषद कार्यालय में मंगलवार को दबिश दी। डीएसपी एचपी चौधरी की टीम ने नगर परिषद में उपयंत्री और क्लर्क को 60 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथ दबोचा।

news fact-

पिता-पुत्र की शिकायत पर लोकायुक्त की दो जगह कार्रवाई
दो उपयंत्री सहित चार को एक लाख रुपए रिश्वत के साथ दबोचा

वहीं, डीएसपी दिलीप झरबड़े की टीम ने नगरीय प्रशासन विभाग में 40 हजार की रिश्वत लेते उपयंत्री और मान चित्रकार को रंगेहाथों दबोचा। दोनों कार्रवाई संजय नगर रांझी निवासी पिता-पुत्र की शिकायत पर की गई। पिता की फर्म ने नगर परिषद में 49 लाख रुपए के पेवर ब्लॉक व शेड से सम्बंधित कार्य कराया है। भुगतान और पुन: परीक्षण के एवज में पिता-पुत्र से पहले ही चारों 2.10 लाख रुपए ऐंठ चुके थे।

लोकायुक्त एसपी अनिल विश्वकर्मा ने बताया कि तीन दिन पहले संजय नगर रांझी निवासी रामसिंह और उनके बेटे मोहन सिंह ने दो विभागों में रिश्वत मांगे जाने की शिकायत की थी। बातचीत ट्रैप कराने के बाद डीएसपी चौधरी, निरीक्षक मनोज गुप्ता की टीम को रामसिंह के साथ भेड़ाघाट नगर परिषद भेजा गया।

दोपहर 3.30 बजे रामसिंह ने जैसे ही परिषद कार्यालय में उपयंत्री अब्दुल मतीन की ओर से मांगी गई रकम क्लर्क शम्भूदयाल को दी, टीम ने रंगेहाथ दबोच लिया। 32 लाख रुपए के काम के एवज में 1.40 लाख रुपए पहले ही ऐंठ चुके थे। 60 हजार और मांगा था। शाम चार बजे के लगभग डीएसपी झरबड़े, निरीक्षक स्वपनिल दास गुप्ता, एसआई नरेश की टीम ने मदन महल स्थित नगरीय प्रशासन विभाग में दबिश दी।

जैसे ही मोहन ने उपयंत्री रमेश अग्रवाल की ओर से मांगे गए 40 हजार रुपए रिश्वत की रकम मानचित्रकार राजेश पटेल को दिया, टीम ने दबोच लिया। नगर परिषद में 17 लाख रुपए के कराए गए काम का पुन: परीक्षण और बिल पास करने के एवज में उपयंत्री ने 1.10 लाख रुपए मांगे थे। 70 लाख रुपए पहले ही मोहन दे चुका था। दोनों ही प्रकरणों में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम का प्रकरण दर्ज कर आरोपितों को मौके पर ही जमानत दे दी।

Ad Block is Banned