election 2018 - मजदूर और गरीबों के ये मुद्दे बन गए हैं निर्णायक, भाजपा-कांग्रेस दोनों को दिक्कत

deepak deewan | Publish: Sep, 07 2018 10:08:13 AM (IST) | Updated: Sep, 07 2018 03:52:19 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

ये मुद्दे बन गए हैं निर्णायक

प्रभाकर मिश्रा @ जबलपुर. आस्था के केंद्र बड़ी व बूढ़ी खेरमाई के कारण अलग पहचान रखने वाले पूर्व विधानसभा क्षेत्र में घनी बसाहट है। संकरी सडक़ें, जाम और पेयजल संकट से जूझना आम बात है। क्षेत्र में अपराध पर नियंत्रण बड़ी चुनौती है। 2008 के पहले तक चार चुनावों में यह सीट भाजपा ने जीती थी। परिसीमन के बाद 2008 में कांग्रेस ने यहां जीत दर्ज की। 2013 के चुनाव में फिर भाजपा ने यहां कब्जा जमाया।


पूर्व में विकास का इंतजार
पिछड़ेपन की टीस पूर्व विधानसभा क्षेत्र के लोगों को सताती है। विकास की बयार बहे, सभी को इंतजार है। यहां बड़ी संख्या में मजदूर वर्ग भी रहता है। पानी, सडक़, स्वास्थ्य, सफाई जैसी मूलभूत सुविधाओं के लिए आज भी जूझ रहे क्षेत्र की राजनीति भी कहीं न कहीं इन्हीं मुद्दों के इर्द-गिर्द होती रही है, लेकिन ज्यादा बदलाव देखने नहीं मिला।


2013 में वोट
अंचल सोनकर 67167
लखन घनघोरिया 66012


ये नाम हैं चर्चा में
भाजपा
अंचल सोनकर - मौजूदा विधायक, क्षेत्र में पांच साल सक्रिय रहे। पेयजल की समस्या दूर करने की दिश में प्रयास।
रत्नेश सोनकर - पूर्व एमआइसी सदस्य, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के करीब।
सुमित्रा वाल्मीक - नगर निगम अध्यक्ष, लंबा राजनीतिक अनुभव
कांग्रेस
लखन घनघोरिया - पूर्व विधायक, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के करीब। कार्यकर्ताओं का भरोसा।
मधु चौधरी - कांग्रेस समन्वय समिति अध्यक्ष, दिग्विजय सिंह गुट से।
गजेन्द्र सोनकर गज्जू - सक्रिय कार्यकर्ता, बड़ें नेताओं की करीबी।


ये भी ठोक रहे ताल
राकेश चौधरी - सक्रिय कार्यकर्ता
वंदना बेन - छात्र राजनीति के समय से सक्रिय।


जातिगत समीकरण
पूर्व विधानसभा में सोनकर समाज व खटीक समाज के वोटर ज्यादा हैं। उनके अलावा जैन, मुस्लिम व अन्य वोटर हैं। यह एससी वर्ग की आरक्षित सीट है।


चुनौतियां
भाजपा- पार्टी में भितरघात की स्थिति दिख रही है।
कांग्रेस - यहां भी जमकर गुटबाजी है। इससे बचना बड़ी चुनौती होगी।


विधायक की परफॉर्मेंस
पानी की समस्या से जूझने वाले आनंद नगर क्षेत्र में पानी की टंकी का निर्माण कराया। बिजली का नया सब स्टेशन बना। अपराधों को लेकर सवाल उठते रहे।

पूर्व विधानसभा के लालमाटी क्षेत्र के नागरिक सत्येन्द्र मिश्रा के मुताबिक क्षेत्र विकास के लिहाज से पिछड़ा हुआ है। संकरी सडक़ें यातायात का दम घोंटती हैं। क्षेत्र में रोजगार के अवसर नहीं हैं। अपराध व नशे के कारोबार पर नियंत्रण के लिए प्रयास नहीं हो रहे हैं।

Ad Block is Banned