#mpkamahamukabla: कई योजनाएं में... पांच साल का हिसाब मांगने तैयार है जनता

#mpkamahamukabla: कई योजनाएं में... पांच साल का हिसाब मांगने तैयार है जनता

Premshankar Tiwari | Publish: Oct, 12 2018 03:30:05 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

कई जगह सामने आईं मूलभूत सुविधाओं की कमी

जबलपुर। शहर की यातायात व्यवस्था दम तोड़ रही है, लेकिन दमोहनाका-मदनमहल फ्लाईओवर विकास के लिए अभी इंतजार करना होगा। गंदगी से अटे माढ़ोताल का पुनरुद्धार भी अब वेटिंग में है। आचार संहिता लागू होने के बाद नगर विकास से जुड़े कई महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट अटक गए हैं। 4 साल पहले शहरी सीमा में शामिल हुए गांवों का तो ये है कि उनमें विकास तो दूर की बात अब तक सड़क, बिजली, पानी की मूलभूत सुविधा भी मुहैया नहीं कराई जा सकी है। हद तो ये नए वार्डों में ठीक ढंग से कचरा भी नहीं उठता। जनप्रतिनिधियों की वादाखिलाफी से जनता त्रस्त है। अब बड़ा सवाल ये है कि सियासी समर में सत्ता पक्ष और विपक्ष उनसे भला किस मुंह से वोट मांगेंगे।

मध्य, केंट, बरगी और पनागर विधानसभा का हाल

उत्तर मध्य विधानसभा
- फ्लाईओवर का इंतजार जारी
- 750 करोड़ से होना है निर्माण
- साढ़े चार किलोमीटर लंबे फ्लाईओवर का नहीं हो सका भूमि पूजन
- यातायात जाम सबसे बड़ी समस्या
- माढ़ोताल के एक ओर गांव जैसा नजारा(कच्चे मकान, सड़क, बिजली, पानी की समस्या )
- सब्जी और गल्ला मंडी आज तक नहीं हो सकीं व्यवस्थित
- बड़ा फु हारा, सराफा, अंधेरदेव, लार्डगंज मुख्य बाजार के आसपास पार्र्किंग का इंतजाम नहीं

--------

विकास की बांट जोह रहे (निगम सीमा में शामिल गांव)

बरगी विधानसभा-रमनगरा, दलपतपुर, चौकीताल,छीतापार,तेवर, पिंडरई, कुंगवा, अंधुआ, मोहनिया, परसवारा, बसहा, कचनारी।

समस्याएं
- कच्ची सड़कें
- पेयजल की समस्या
- स्ट्रीट लाइट भी नहीं
- तेवर में नहीं बन सका पुरातत्व संग्रहालय
- दलपतपुर-चौकीताल में जीर्ण-क्षीण हो रहे हैं प्राचीन मंदिर

--------

पनागर विधानसभा
लमती, रक्सा, करमेता, रिमझा, सिमरिया, रैगवां, नंदना, नंदनी रौसरा, खमरिया, ओरिया, भीटा, टेमर, डुमना, चकदेही, गधेरी, महगवां, सुखलालपुर, सोनपुर, मानेगांव, मोहनिया, बिलपुरा, मढ़ई, रिछाई, पिपरिया, इमलिया, महाराजपुर, सुहागी, गुरदा, कुदवारी, अमखेरा, कठौंदा।

समस्याए
- विकास की धारा से अलग-थलग हैं ये गांव
- पेयजल बड़ी समस्या
- रात होते ही छा जाता है घुप अंधेरा
- सड़कें भी नहीं बनीं

------

बड़ी योजनाओं में वक्त
क्षेत्र में मूलभूत सुविधाओं से लेकर आवश्यक इंफ्रास्ट्रक्चर विकास के लिए लगातार प्रयास किए हैं, जिससे शहर का तेजी से विकास हो। हालाकि बड़ी योजनाओं को आकार लेने में वक्त लगता है।
शरद जैन, राज्यमंत्री

शहर की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर विकास की आवश्यकता है, इस दिशा में प्रयास नगण्य रहे हैं। शहरी सीमा में शामिल हुए गांवों के विकास के लिए भी अलग से पैकेज का प्रावधान नहीं किया गया।
राजेश सोनकर, नेता प्रतिपक्ष, नगर निगम

केवल वादे किए गए, मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने की बात हो या इंफ्रास्ट्रक्चर विकास की दोनों ही ओर ध्यान नहीं दिया गया। यही वजह है कि शहर यातायात की समस्या से जूझ रहा है। नए वार्डों को तो विकास के लिए फं ड भी नहीं दिया।
दिनेश यादव, नगर अध्यक्ष, कांग्रेस

नगर निगम सीमा में शामिल गांवों को फं ड नहीं मिला नतीजतन कहने को तो वे वार्ड में तब्दील हो गए, लेकिन उनमें मूलभूत सुविधाओं का भी विकास नहीं हो पा रहा है।
कविता यादव, पार्षद नया वार्ड क्र 74

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned