शिक्षक पात्रता परीक्षा - हजारों टीचर की निकाली वैंकेसी पर लगा दिया ये अड़ंगा, see video

वैंकेसी पर लगा दिया ये अड़ंगा

By: deepak deewan

Updated: 14 Sep 2018, 02:30 PM IST

जबलपुर.. मध्यप्रदेश के विद्यार्थियों के साथ सरकार बुरा सुलूक कर रही है। एक और तो प्रदेश सरकार हजारों टीचर्स की वैकेंसी निकाल रही है वहीं दूसरी ओर इसके लिए जरूरी डिग्री में कई अडंगे लगाए जा रहे हैं। शिक्षक बनने के लिए जरूरी बीएड की परीक्षाएं न होने से स्टूडेंट्स नाराजगी जता रहे हैं। बीएड परीक्षाओं को लेकर रादुविवि में हंगामा हो गया। मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री से पात्रता परीक्षा की डेट बढ़ाने की मांग भी की गई है।

पात्रता परीक्षा की डेट बढ़ाने मांग
रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में बीएड के छात्रों ने हंगामा किया। छात्र बीएड परीक्षाएं शुरू न होने से शिक्षक पात्रता परीक्षा में शामिल होने से वंचित रह गए थे। छात्रों ने आरोप लगाया कि विश्वविद्यालय प्रशासन की लापरवाही के चलते अब तक बीएड की परीक्षाओं का टाइम टेबिल तय नहीं हो सका है। ऐसी स्थिति में बीएड अंतिम वर्ष के छात्रों को प्रोविजनल आधार पर प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड द्वारा ऑनलाइन पात्रता परीक्षा में शामिल होने दिए जाए। रिसर्च स्कॉलर एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुज प्रताप सिंह, अनितेश चनपुरिया, दीपेश मिश्रा, ओशो गुरुांग आदि ने कहा कि परीक्षाएं समय पर शुरू न हो पाने के चलते बीएड के छात्र परीक्षा में शामिल नहीं हो सके हैं। मुख्यमंत्री, स्कूल शिक्षा मंत्री से मांग है कि आवेदन प्रक्रिया में बढ़ोत्तरी की जाए।


यहां टाइम टेबिल हुआ जारी- पात्रता परीक्षा को देखते हुए देर शाम विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा आनन फानन में बीएड अंतिम वर्ष का टाइम टेबिल जारी कर दिया गया। परीक्षा 19 से 24 सितंबर तक कराने का निर्णय लिया गया है। विदित हो कि जुलाई-अगस्त में परीक्षा हो जानी थी, लेकिन बीएड कॉलेजों की सम्बंद्धता प्रदान करने में विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा ढिलाई बरती गई। महीनों तक चली सम्बंद्धता के चलते परीक्षा का टाइम टेबिल तय नहीं हो सका तो वहीं स्कूलों में अवकाश होने के चलते कॉलेजों में बीएड की टीचिंग प्रेक्टिकल भी देर से शुरू हो सके।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned